Home /News /haryana /

controversy over history book of haryana board wrote congress appeasement policy is a reason for partition ssp

हरियाणा बोर्ड की इतिहास की किताब पर विवाद, लिखा- कांग्रेस की ‘तुष्टिकरण’ नीति भी विभाजन का एक कारण

एचबीएसई के अध्यक्ष प्रो. जगबीर सिंह ने कहा कि किताब इतिहास की घटनाओं को उसी तरह बताती है जैसे वे घटित हुईं.

एचबीएसई के अध्यक्ष प्रो. जगबीर सिंह ने कहा कि किताब इतिहास की घटनाओं को उसी तरह बताती है जैसे वे घटित हुईं.

Controversy over Haryana Board History Book: एचबीएसई के अध्यक्ष प्रो. जगबीर सिंह ने कहा कि किताब इतिहास की घटनाओं को उसी तरह बताती है जैसे वे घटित हुईं. उन्होंने कहा कि इस पुस्तक की विख्यात इतिहासकारों ने समीक्षा की है. सिंह ने कहा कि किताब को मौजूदा शैक्षणिक सत्र से पढ़ाया जाएगा. कांग्रेस के “तुष्टिकरण” वाले खंड पर टिप्पणी करते हुए, हरियाणा कांग्रेस नेता और राज्य की पूर्व शिक्षा मंत्री गीता भुक्कल ने कहा कि देश के स्वतंत्रता संग्राम में पार्टी की भूमिका के बारे में हर कोई जानता है.

अधिक पढ़ें ...

चंडीगढ़. वर्तमान शैक्षणिक सत्र से हरियाणा स्कूली शिक्षा बोर्ड (HBSE) द्वारा चलाई जा रही कक्षा-9 की इतिहास (History Book) की पाठ्यपुस्तक में 1947 में भारत के विभाजन (Partition of India) के कारणों में से एक के रूप में कांग्रेस की “तुष्टिकरण” नीति का उल्लेख है. बंटवारे से पहले की घटनाओं का जिक्र करते हुए बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड किए गए किताब के एक हिस्से में कहा गया है, “मुस्लिम लीग ने कांग्रेस के रास्ते में रुकावटें पैदा करने की नीति अपनाई. दूसरी तरफ, कांग्रेस ब्रिटिश सरकार के खिलाफ मुस्लिम लीग का समर्थन चाहती थी.”

इसमें कहा गया, “1916 का लखनऊ समझौता, 1919 का खिलाफत आंदोलन और गांधी-जिन्ना वार्ता कांग्रेस के ‘तुष्टीकरण’ के उदाहरण थे। इसने सांप्रदायिकता को बढ़ावा दिया. मोहम्मद अली जिन्ना से बार-बार अनुरोध करने के परिणामस्वरूप उन्हें अनुचित महत्व मिला और वह हमेशा कांग्रेस का विरोध करने लगे. देश के हालात खराब होने लगे। सांप्रदायिक दंगे भड़क रहे थे, जिसके पीछे मुस्लिम लीग का हाथ था.”

कांग्रेस ने महसूस किया… देश के विभाजन को स्वीकार करना आवश्यक

हिंदी में अपलोड की गई पुस्तक के अध्याय में कहा गया कि कांग्रेस ने तब महसूस किया कि शांति और व्यवस्था बनाए रखने के लिए, देश के विभाजन को स्वीकार करना आवश्यक है. इसमें यह भी कहा गया कि देश के विभाजन के पीछे अन्य प्रमुख कारणों में कांग्रेस नेतृत्व की शिथिलता और सत्ता का लालच था.

किताब में कहा गया, “कांग्रेस नेतृत्व की शिथिलता… वे और संघर्ष के लिए तैयार नहीं थे. कुछ कांग्रेसी नेता आजादी के तुरंत बाद सत्ता का स्वाद चखना चाहते थे.” किताब के एक खंड में यह भी कहा गया है कि अगर दोनों देशों के बीच शांति सुनिश्चित करने के लिए बंटवारा जरूरी था तो आज तक शांति स्थापित क्यों नहीं हो पाई.

जगबीर सिंह ने कहा- इतिहास की घटनाओं को जैसे घटित हुईं वैसे ही बताती है

एचबीएसई के अध्यक्ष प्रो. जगबीर सिंह ने कहा कि किताब इतिहास की घटनाओं को उसी तरह बताती है जैसे वे घटित हुईं. उन्होंने कहा कि इस पुस्तक की विख्यात इतिहासकारों ने समीक्षा की है. सिंह ने कहा कि किताब को मौजूदा शैक्षणिक सत्र से पढ़ाया जाएगा.

कांग्रेस के “तुष्टिकरण” वाले खंड पर टिप्पणी करते हुए, हरियाणा कांग्रेस नेता और राज्य की पूर्व शिक्षा मंत्री गीता भुक्कल ने कहा कि देश के स्वतंत्रता संग्राम में पार्टी की भूमिका के बारे में हर कोई जानता है. उन्होंने कहा, “तथ्यों को वैसे ही बताया जाना चाहिए जैसे वे हैं, लेकिन अगर इन्हें तोड़-मरोड़ कर पेश किया जाए, तो बच्चों को वास्तविकता का पता नहीं चलेगा.”

Tags: Congress, Haryana Government, Haryana news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर