Covid-19 Update: हरियाणा में कोरोना के 12286 नए मरीज आए सामने, 163 लोगों की मौत

संक्रमण की दर 8.24 प्रतिशत और ठीक होने की दर 83.55 प्रतिशत है. (सांकेतिक फोटो)

संक्रमण की दर 8.24 प्रतिशत और ठीक होने की दर 83.55 प्रतिशत है. (सांकेतिक फोटो)

स्वास्थ्य विभाग के दैनिक बुलेटिन के अनुसार, इन 163 मौतों में से गुरुग्राम (Gurugram) और रोहतक में 17-17, करनाल में 15, हिसार में 14 और भिवानी में 12 मरीजों की मौत शामिल हैं.

  • Share this:

चंडीगढ़. हरियाणा (Haryana) में बृहस्पतिवार को कोविड-19 संक्रमण (Covid-19 Infection) से 163 और मरीजों की मौत की सूचना मिली है. इससे राज्य में मृतकों की संख्या बढ़कर 6,238 हो गई. वहीं, कोविड-19 के 12,286 नये मामले सामने आने से संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 6,65,028 हो गई. स्वास्थ्य विभाग के दैनिक बुलेटिन के अनुसार, इन 163 मौतों में से गुरुग्राम (Gurugram) और रोहतक में 17-17, करनाल में 15, हिसार में 14 और भिवानी में 12 मरीजों की मौत शामिल हैं. जिन जिलों में कोविड-19 के अधिक मामले सामने आये उनमें गुरुग्राम (2,159), सिरसा (1,350), फरीदाबाद (1,091) और हिसार (1,166) शामिल हैं. राज्य में कुल उपचाराधीन मामलों संख्या 1,03,140 है जबकि अब तक कुल 5,55,650 मरीज संक्रमण से ठीक हो चुके हैं. संक्रमण की दर 8.24 प्रतिशत और ठीक होने की दर 83.55 प्रतिशत है.

वहीं, कल खबर सामने आई थी कि देश भर में कोरोना के हाहाकार के बीच हो रही मौतों पर सारा देश खून के आंसू रो रहा है.  लेकिन इसी बीच कुछ मुनाफाखोर लोग ऐसे भी हैं , जो देश में हो रही मौतों की परवाह किये बिना सिर्फ अपने खजाने भरने के लिए मुनाफाखोरी में लगे हैं. अंबाला शहर की एक फैक्ट्री (Factory) में यही गोरखधंधा चल रहा था. इंसानी जज्बातों और सरकारी आदेशों की धज्जियां उड़ाते हुए  फैक्ट्री में सैंकड़ों की तदाद में सिलेंडर रखे गए थे, जिनमे आधे सिलेंडरों में ऑक्सीजन (Oxygen) और आधे खाली थे.

सैकड़ों सिलेंडर अपनी फैक्ट्री के काम में इस्तेमाल कर रहे थे

अंबाला के डीसी को जैसे ही इसकी खबर लगी तो उन्होंने टीमें गठित करके तुरंत फैक्ट्री में छापेमारी के आदेश जारी कर दिए.  मुसीबत की इस घड़ी में सरकार के सख्त फरमान हैं की किसी भी व्यक्ति के पास अगर ऑक्सीजन सिलेंडर है तो वह उसका इंडस्ट्रियल इस्तेमाल नहीं कर सकता, उसे तुरंत यह आक्सीजन सिलेंडर सरकार के पास जमा करवाने हैं ताकि इन सिलेंडरों को मेडिकल यूज यानी कोरोना मरीजों की जान बचाने के लिए इस्तेमाल में लाया जा सके. लेकिन इन सब आदेशों की परवाह किये बिना अंबाला में चल रही इस फैक्ट्री के संचालक सैकड़ों सिलेंडर अपनी फैक्ट्री के काम में इस्तेमाल कर रहे थे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज