जानें, जेल में राम रहीम के कौन से व्यवहार को माना जा रहा अच्छा

राम रहीम फाइल फोटो
राम रहीम फाइल फोटो

उपायुक्त को लिखे पत्र में कहा गया था कि राम रहीम का जेल में आचरण बढ़िया है और ना ही वो हार्ड-कोर क्रिमिनल है.

  • Share this:
पत्रकार हत्या और साध्वियों के साथ रेप के दोषी डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम ने पैरोल की अर्जी लगाई है. राम रहीम ने खेतीबाड़ी के लिए पैरोल मांगी है, लेकिन उसके पास कोई कृषि भूमि ही नहीं है. सारी भूमि डेरा सच्चा सौदा ट्रस्ट के नाम है. हालांकि जेल अधिकारियों को नहीं लगता कि राम रहीम का आपराधिक रिकॉर्ड कुछ ज्यादा खराब है. तभी तो राम रहीम की पेरोल पर राय मांगने के लिए सिरसा उपायुक्त को दो पत्र लिखा है.

राम रहीम का जेल में अच्छा आचरण

उपायुक्त को लिखे पत्र में कहा गया था कि राम रहीम का जेल में आचरण बढ़िया है और ना ही वो हार्ड-कोर क्रिमिनल है. अब हार्ड-कोर क्रिमिनल की परिभाषा आपकी और हमारी अलग हो सकती है, लेकिन कानून में जो हार्ड-कोर क्रिमिनल की परिभाषा लिखी गई है, उसके लिहाज़ से राम रहीम वाकई इस श्रेणी में नहीं आता.



राम रहीम को नहीं कहा जा सकता हार्ड-कोर क्रिमिनल

राम रहीम बलात्कार और हत्या का दोषी है लेकिन कानूनन उसे हार्ड-कोर क्रिमिनल नहीं कहा जा सकता. जेल अधिकारियों की ये टिप्पणी कानूनी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए की गई है. लेकिन लाख टके का सवाल यही है कि क्या राम रहीम को पैरोल मिलेगी. क्या प्रशासन उसे जेल से बाहर आने की छूट देगा?

जेल में दिए सब काम करता है राम रहीम

जेल प्रशाशन का कहना है कि राम रहीम को जेल प्रशासन द्वारा जो कार्य दिए जाते हैं वो उसे करता है. फिर चाहे वो खेतीबाड़ी का काम हो या फिर कारपेंटर का. राम रहीम को जो भी काम दिया गया है उसने उसे बखूबी किया है.

अन्य कैदियों के साथ अच्छा व्यवहार

जेल में राम रहीम ने कभी किसी से झगड़ा नहीं किया. राम रहीम जेल में बंद अन्य कैदियों के साथ अच्छा व्यवहार करता है. जेल प्रशासन की हर बात को वो मानता है. हर काम वो समय करता है, ये सब काम उसके अच्छे व्यवहार में गिने जा रहे हैं.

ये भी पढ़ें-

हरियाणा: सड़क किनारे ठेले की चाउमीन खाने के बाद 3 साल के बच्चे के फेफड़े फटे

शादी टूटने से नाराज था प्रेमी, हत्या के बाद बैग में पैक कर झील में फेंका शव
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज