लाइव टीवी

राम रहीम से मिलने के लिए आतुर है हनीप्रीत, लेकिन इस वजह से नहीं मिल रही इजाजत

News18 Haryana
Updated: November 16, 2019, 11:12 AM IST
राम रहीम से मिलने के लिए आतुर है हनीप्रीत, लेकिन इस वजह से नहीं मिल रही इजाजत
हनीप्रीत राम रहीम से मिलने के लिए लगातार कोशिश कर रही है पर जेल प्रशासन मिलने की इजाजत नहीं दे रहा

राम रहीम से मिलने की इजाजत के लिए हनीप्रीत (Honeypreet) की तरफ से जेल प्रशासन (Jail Administration) को तीन बार चिट्ठी भेजा जा चुका है लेकिन तकनीकी पेंच की वजह से उसे इसकी इजाजत नहीं मिल रही है. हनीप्रीत के वकील एपी सिंह ने इसका खुलासा किया है.

  • Share this:
सिरसा. जेल में बंद राम रहीम (Ram Rahim) की राजदार और उसकी मुंहबोली बेटी हनीप्रीत इंसां (Honeypreet Insaan) को उससे मिलने की इजाजत नहीं मिल रही है. बीते छह नवंबर को अंबाला जेल (Ambala Jail) से जमानत पर बाहर आने के बाद हनीप्रीत राम रहीम से मिलने को आतुर है, लेकिन उसे मिलने नहीं दिया जा रहा है. हनीप्रीत (Honeypreet) रोहतक जेल प्रशासन (Jail Administration) को तीन बार पत्र लिखकर उनसे निवेदन कर चुकी है कि उसे राम रहीम से मिलने की अनुमति दी जाए, लेकिन अब तक ऐसा हो नहीं सका है. हालांकि राम रहीम के परिवार के लोगों को उससे मिलने दिया जा रहा है.

हनीप्रीत के वकील एपी सिंह ने बताया ये कारण 
हनीप्रीत के वकील एपी सिंह का कहना है कि रोहतक जिले की सुनारिया जेल प्रशासन से हनीप्रीत की ओर से कई बार राम रहीम से मिलने की इजाजत मांगी गई. जब इसकी अनुमति नहीं मिली तो आरक्षी महानिरीक्षक (IG) जेल को चिट्ठी भी लिखी गई. पत्र में उनसे हनीप्रीत को राम रहीम से मिलने की इजाजत देने और मिलवाने की व्यवस्था करने का आग्रह किया गया. लेकिन जेल प्रशासन का कहना है कि जेल नियमों के हिसाब से बंदी से मुलाकात करने वालों की जो सूची है उसमें हनीप्रीत का नाम नहीं है.

नाम जोड़ना मात्र 10 मिनट की प्रक्रिया 

हनीप्रीत के वकील कहते हैं कि सूची में नाम जोड़ना मात्र 10 मिनट की प्रक्रिया है. इसमें राम रहीम से स्वीकृति लेकर मिलने वालों की सूची में सिर्फ नाम ही तो जोड़ना है. इसमें दस दिन क्यों लग रहे हैं, ये बात समझ से परे है. मानवाधिकार और देश का कानून हनीप्रीत को राम रहीम से मिलने की इजाजत देता है. दो साल पहले जेल प्रशासन ने ही अपनी सुरक्षा में हनीप्रीत को सिरसा भिजवाया था.

हनीप्रीत के वकील एपी सिंह ने दी पूरे घटनाक्रम की जानकारी


जेल प्रशासन ने जिला प्रशासन को लिखा है पत्र 
Loading...

बताया जा रहा है कि हनीप्रीत-राम रहीम की मुलाकात को लेकर जेल अधिकारियों ने जिला प्रशासन को पत्र लिखा है. जिसमें जिला प्रशासन से इस संबंध में एनओसी (नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट) की मांग की है. हालांकि हनीप्रीत के वकील एपी सिंह का कहना है कि इस मुलाकात की इजाजत देने में कानून-व्यवस्था की स्थिति बिगड़ने जैसी कोई संभावना नहीं है. उनका कहना है कि जब हनीप्रीत के जेल से बाहर आने के बाद कोई कानून- व्यवस्था नहीं बिगड़ी तो अब क्या परेशानी है, यह बात समझ से परे है.

(रिपोर्ट- पंकज पताही)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 16, 2019, 9:05 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...