Assembly Banner 2021

दिल्ली सरकार के आरोप पर दुष्यंत चौटाला का पलटवार, बोले- TV पर रोने से दिल्ली की प्यास नहीं बुझेगी

दुष्यंत चौटाला ने केजरीवाल सरकार को दिया करारा जवाब

दुष्यंत चौटाला ने केजरीवाल सरकार को दिया करारा जवाब

हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) ने कहा कि पानी की कमी की समस्या पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा (Haryana), पंजाब और राजस्थान में भी आने वाली है

  • Share this:
चंडीगढ़. दिल्ली में जल संकट को रोकने के लिए हरियाणा (Haryan) के खिलाफ दिल्ली जल बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया. दिल्ली जल बोर्ड का आरोप है कि एक बार फिर हरियाणा ने दिल्ली को कच्चे पानी की आपूर्ति कम कर दी है, गर्मी के मौसम में पानी की सप्लाई बाधित करने वाला हरियाणा का व्यवहार ठीक नहीं. दिल्ली जल बोर्ड (Delhi Water Board) के मुताबिक़ पानी में अमोनिया की मात्रा बढ़ने और हरियाणा द्वारा जो पानी दिल्ली सप्लाई किया जाता है. उसमें हरियाणा की तरफ़ से भारी कटौती किये जाने की वजह से परेशानी बढ़ गयी है.

राघव चड्ढा ने कहा कि गर्मी बढ़ने के साथ पानी की डिमांड भी बढ़ती जा रही है लेकिन डिमांड और सप्लाई में काफ़ी अंतर आने से अब लोगों की परेशानी भी धीरे-धीरे बढ़ सकती है. इस सिलसिले में उन्होंने हरियाणा सरकार से भी बात की है और केन्द्रीय जल मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत को भी इस मामले को सुलझाने के लिये पत्र लिखा है. राघव चड्ढा ने हरियाणा सरकार पर तंज कसते हुये कहा कि हरियाणा में बीजेपी की सरकार है और दिल्ली में पानी की क़िल्लत होने पर परेशानी बीजेपी के बड़े-बड़े नेताओं को भी झेलनी पड़ सकती है, ऐसे में हरियाणा सरकार को इस पर जल्द ध्यान देना चाहिये.

वहीं दिल्ली सरकार के आरोपों पर हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि दिल्ली जल बोर्ड वालों को यमुना बैराज का दौरा जरूर करना चाहिए. पानी की कमी से अकेले दिल्ली को दिक्कत नहीं है. पानी की कमी की समस्या पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान में भी आने वाली है. टीवी पर रोने से दिल्ली की प्यास नहीं बुझेगी. इसके लिए हम सबको मिलकर विचार करना पड़ेगा. दुष्यंत चौटाला ने कहा दिल्ली सरकार को भी यमुना नदी पर बनने वाले लखवार किसाऊ और रेणुका डैम में अपनी हिस्सेदारी डालनी चाहिए.



Youtube Video

इस मुद्दे पर दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह विधूडी- दिल्ली सरकार अपनी नाकामी छिपाने के लिये हर बार इल्जाम बीजेपी पर लगा देती है. रामवीर विधूडी ने कहा कि केजरीवाल  सरकार ने पिछले सालों में पानी को लेकर जो भी दावे किये थे वो सब फेल साबित हो रहे है, ना तो पानी की साफ़ सफ़ाई के बेहतर विकल्प तैयार किये गये और ना ही पानी की आपूर्ति बढ़ाने के सोर्स पर काम किया गया. नतीजा ये कि हर साल दिल्ली को पानी की क़िल्लत का सामना करना पड़ता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज