कोटखाई दुष्कर्म-मर्डर: पूर्व IG जैदी को सता रहा कोरोना डर, स्वास्थ्य का हवाला देकर हाईकोर्ट से मांगी जमानत
Chandigarh-City News in Hindi

कोटखाई दुष्कर्म-मर्डर: पूर्व IG जैदी को सता रहा कोरोना डर, स्वास्थ्य का हवाला देकर हाईकोर्ट से मांगी जमानत
सूरज हत्याकांड में आरोपी पूर्व आईजी जैदी.

जैदी ने अपनी याचिका में कहा, कि एक तो वो पहले ही हाईपरटेंशन का मरीज (Patient) है. अब कोवीड-19 (COVID-19) की महामारी चल रही है. उसे डर है की वह उससे संक्रमित हो सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 29, 2020, 7:38 AM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. हिमाचल प्रदेश के चर्चित कोटखाई गैंगरेप और मर्डर केस (Shimla Kotkhai Gang rape and Murder) से जुड़े सूरज कस्टोडियल डेथ केस में आरोपी पूर्व आईजी जहुर हैदर जैदी (IG Jahoor H Jaiddee) पूर्व आई.जी. जहुर हैदर जैदी ने हाइकोर्ट से जमानत मांगी है. जैदी ने अपने ख़राब स्वास्थ्य का हवाला दे 60 दिनों की अंतरिम जमानत की मांग की है. जैदी की  याचिका पर CBI को 1 मई के लिए नोटिस जारी कर जवाब मांगा है.

हाईकोर्ट ने साथ ही सीबीआई को जैदी का मेडिकल रिकॉर्ड भी अगली सुनवाई पर पेश करने के आदेश  दिए है. जैदी ने अपनी  याचिका में कहा कि एक तो वो पहले ही हाईपरटेंशन का मरीज है. अब कोवीड-19 की महामारी चल रही है. उसे डर है की वह उससे संक्रमित हो सकता है. ऐसे में उसके स्वास्थ्य को देखते हुए 60 दिनों की अंतरिम जमानत दी जाए.

बता दें कि 4 जुलाई 2017 को कोटखाई के एक स्कूली छात्रा के साथ बलात्कार और उसकी हत्या की गई थी.  एक आरोपी स्थानीय युवक सूरज की कोटखाई थाने में संदिग्ध हालात में मौत हो गई. सीबीआई जांच में सामने आया कि पुलिस के टॉर्चर से ही सूरज की मौत हुई थी. मामले में सीबीआई ने आईजी जहुर हैदर जैदी सहित कुल नौ लोगों को आरोपी बनाया था. सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर इस केस की अब चंडीगढ़ की सीबीआई कोर्ट में सुनवाई चल रही है. जैदी इस समय बुड़ैल जेल में है.



यह है मामला
चार जुलाई 2017 को कोटखाई के एक स्कूल की छात्रा लापता हो गई थी. दो दिन बाद दादी जंगल से छात्रा का शव बरामद हुआ. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दुष्कर्म के बाद हत्या की पुष्टि हुई थी. इसमें पुलिस ने पांच आरोपी गिरफ्तार किए थे. इनमें एक सूरज भी था. 18 जुलाई को कोटखाई थाने के लॉकअप में पुलिस कस्टडी में टॉर्चर की वजह से सूरज की जान चली गई थी. इस पर सीबीआई ने जैदी समेत नौ पुलिस कर्मियों को गिरफ्तार किया था. आईजी जैदी, के अलावा शिमला के पूर्व एसपी डीडब्ल्यू नेगी, ठयोग डीएसपी मनोज जोशी, कोटखाई के पूर्व एसएचओ राजिद्र सिंह, एएसआइ दीपचंद, हेड कांस्टेबल सूरत सिंह, मोहन लाल, रफी अली और कांस्टेबल रंजीत को गिरफ्तार किया गया था. शिमला में वकील न मिलने पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर केस को चंडीगढ़ स्थित सीबीआई की विशेष कोर्ट में ट्रांसफर किया गया था.

ये भी पढ़ें:  बीमार मां से मिलने के लिए बेटे ने साइकिल से तय किया 1400 किमी का सफर

झज्जर में दिल्ली पुलिस के जवान के माता-पिता और डेढ़ साल की बेटी भी कोरोना पॉजिटिव
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading