इनेलो के पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत BJP में शामिल

पूर्व डिप्टी स्पीकर व इनेलो नेता गोपीचंद गहलोत भाजपा में शामिल हो गए. उन्हें सीएम मनोहर लाल खट्टर ने गुरुग्राम के पीडब्लूडी गेस्ट हाउस में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान पार्टी में शामिल करवाया.

News18 Haryana
Updated: July 13, 2019, 7:26 PM IST
इनेलो के पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत BJP में शामिल
इंडिया नेशनल लोक दल के पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत
News18 Haryana
Updated: July 13, 2019, 7:26 PM IST
पूर्व डिप्टी स्पीकर व इनेलो नेता गोपीचंद गहलोत भाजपा में शामिल हो गए. उन्हें सीएम मनोहर लाल खट्टर ने गुरुग्राम के पीडब्लूडी गेस्ट हाउस में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान पार्टी में शामिल करवाया. दरअसल गोपीचंद्र गहलोत पहले भी 11 सालों तक बीजेपी में रह चुके हैं. उन्होंने 1991 में गुरुग्राम विधानसभा से निर्दलीय चुनाव लड़ा था. वे यह चुनाव जीत नहीं पाए थे. 2000 में विधानसभा चुनाव में से एक बार फिर से निर्दलीय लड़े और विधायक बने. इसके बाद ओमप्रकाश चौटाला से नजदीकी के चलते वे इनेलो में शामिल हो गए थे.

गौरतलब है कि बीजेपी में अन्य दलों के नेताओं के शामिल होने का सिलसिला लोकसभा चुनाव के समय से ही चल रहा है. इससे पहले हरियाणा की प्रसिद्ध डांसर और गायिका सपना चौधरी भी बीजेपी ज्वाइन कर चुकी हैं. उन्हें दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने पार्टी में शामिल कराया है. लोकसभा चुनाव के पहले पूर्व विधायक हरेराम बाल्मीकि और राजेंद्र बिसला ने कांग्रेस और इनेलो छोड़कर बीजेपी का दामन थामा था.



इनलो ने पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत बीजेपी में शामिल


अन्य दलों के नेता पहले भी बीजेपी में हुए शामिल

हरियाणा बीजेपी के अध्यक्ष सुभाष बराला ने दोनों दिग्गज नेताओं का पार्टी में स्वागत करते हुए कहा था कि इससे हरियाणा बीजेपी को मजबूती मिलेगी. दोनों नेताओं ने बीजेपी में शामिल होने के कारण भी बताए. राजेंद्र बिसला इनेलो की पारिवारिक कलह से दुखी थे तो हरेराम बाल्मीकि कांग्रेस में पूर्व सीएम हुड्डा की कार्यप्रणाली से परेशान थे. बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला ने उन्हें पूरा मान-सम्मान देने का भरोसा दिया था.

बता दें कि राजेंद्र बीसला 1977 में फरीदाबाद के बल्लभगढ़ से आजाद विधायक रह चुके हैं. उसके बाद 1991 में उन्होंने कांग्रेस के टिकट से चुनाव जीता और विधायक बने, लेकिन 2000 में वे फिर से आजाद प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ा. उसके बाद राजेंद्र बीसला इनेलो में चले गए और वर्ष 2014 में पृथला से इनेलो के टिकट पर चुनाव लड़ा था, लेकिन हार गए.

हरिराम वाल्मीकि ने कांग्रेस छोड़ बीजेपी में हुए शामिल
Loading...

वहीं पूर्व विधायक हरिराम वाल्मीकि 2005 में कांग्रेस के टिकट पर झज्जर सीट से चुनाव जीते थे. इस सीट से कांग्रेस कई बरसों बाद चुनाव जीती थी. बाद में उनका पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा से मनमुटाव हो गया था. लिहाजा बाद में उन्होंने कांग्रेस छोड़ दी और अब वह भाजपा में शामिल हो गए हैं.

ये भी पढ़ें: 

BBMB में पंजाब-हरियाणा-राजस्थान ने अभी तक नहीं दिया हिमाचल का हक, कमेटी गठित

चौटाला परिवार में खुशी का माहौल, अर्जुन करने जा रहे हैं सगाई

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...