होम /न्यूज /हरियाणा /गुरमीत राम रहीम के जेल से बाहर आने को क्यों जोड़ा जा रहा पंजाब चुनाव से? जानें क्या हैं मायने

गुरमीत राम रहीम के जेल से बाहर आने को क्यों जोड़ा जा रहा पंजाब चुनाव से? जानें क्या हैं मायने

पंजाब में चुनाव से कुछ ही दिन पहले डेरा सच्चा प्रमुख बाबा राम रहीम को 21 दिन का फरलो मिल गया है. (News18 Hindi)

पंजाब में चुनाव से कुछ ही दिन पहले डेरा सच्चा प्रमुख बाबा राम रहीम को 21 दिन का फरलो मिल गया है. (News18 Hindi)

Gurmeet Ram Rahim Released from Sunaria Jail: बलात्कार और हत्या के केस में सजा काट रहा डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत रा ...अधिक पढ़ें

चंडीगढ़. हरियाणा के रोहतक जिला स्थित सुनरिया जेल में कैद डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम (Gurmeet ram raheem) को सोमवार को तीन हफ्ते का फरलो मिल गया. डेरा सच्चा सौदा प्रमुख को पंजाब चुनाव के 13 दिन पहले जेल प्रशासन ने 21 दिन का फरलो (Faralo) दिया है. पिछले साल भी, डेरा प्रमुख को अपनी बीमार मां से मिलने के लिए सूर्योदय से सूर्यास्त तक का आपातकालीन पैरोल दिया गया था. वह स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए भी कुछ मौकों पर जेल से बाहर आया था.

सिंह (54), सिरसा स्थित अपने आश्रम में दो महिला अनुयायियों से बलात्कार के मामले में 20 साल की कैद की सजा काट रहा है. उसे पंचकूला की एक विशेष सीबीआई अदालत ने अगस्त 2017 में मामले में दोषी करार दिया था. बता दें कि सिरसा मुख्यालय वाले डेरा का चुनावी राज्य पंजाब और उत्तर प्रदेश में बड़ी संख्या में अनुयायी हैं और इसका सीधा असर देखने को मिल सकता है.

पंजाब के इन जिलों में गुरमीत राम रहीम का प्रभाव

पंजाब के मालवा रीजन की फिरोजपुर, मोगा, फजिल्का, अबोहर, फरीदकोट, मुक्तसर, साहिब भठिंडा, पटियाला, लुधियाना, मानसा, संगरुर, बरनाला, मलेरकोटला, फतेहगढ़ और साहिब जिले आते हैं, जहां पर गुरुमीत राम रहीम का असर रहेगा. इन जिलों में 69 विधानसभा सीटें हैं, जहां डेरे का पूरा प्रभाव माना जाता है.

रामरहीम को छिपाकर जेल से निकाला गया

दैनिक भास्कर की खबर के मुताबिक, बलात्कार और हत्या के केस में सजा काट रहा डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम फरलो पर जेल से रिहा हो गया है. वह हरियाणा में रोहतक की सुनारिया जेल में बंद था. जेल से छोड़े जाने के साथ ही उसके अनुयायी उसे छिपाकर डेरा ले जा रहे हैं. राम रहीम की रिहाई पंजाब में चुनाव से 13 दिन पहले हुई है. पंजाब के 23 जिलों में 300 बड़े डेरे हैं, जिनका सीधा दखल सूबे की राजनीति में है. यह डेरे पंजाब के माझा, मालवा और दोआबा क्षेत्र में अपना वर्चस्व रखते हैं.

पंजाब के मालवा क्षेत्र की 69 सीटों पर दखल

डेरा सच्चा सौदा हरियाणा के सिरसा जिले में स्थित है। इसका पंजाब के मालवा रीजन की करीब 69 सीटों पर प्रभाव है। गुरमीत राम रहीम की रिहाई के मद्देनजर सुनारिया जेल के बाहर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी. सिरसा डेरा के प्रमुख राम रहीम का 21 दिन की फरलो (छुट्टी) का आवेदन हरियाणा जेल विभाग पहले ही मंजूर कर चुका था. रोहतक के कमिश्नर के दस्तखत के बाद उसे जेल से बाहर लाया गया.

CM खट्‌टर बोले- कोई चुनावी कनेक्शन नहीं

राम रहीम को फरलो मिलने पर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा है कि सभी समाज को पता है कि फरलो का चुनाव से कोई संबंध नहीं है. यह संयोग भर है और इसकी जानकारी सभी के पास है. कोई भी कैदी जेल में तीन साल पूरे होने के बाद इसके लिए आवेदन कर सकता है. एडमिनिस्ट्रेशन रोल देखता है कि इससे कोई कानून व्यवस्था प्रभावित तो नहीं हो रही. आवेदन के बाद उसका निरीक्षण करके फैसला लिया जाता है. पहले भी कोर्ट के बहुत से फैसले इस पर आ चुके हैं.

मंत्री ने कहा था- फरलो या पैरोल हर कैदी का हक

हरियाणा के जेल मंत्री रणजीत सिंह चौटाला ने दो दिन पहले बयान दिया था कि फरलो या पैरोल लेना हर कैदी का अधिकार है. इसके बाद राम रहीम को 21 दिन की फरलो मिल गई. उसे आज सुबह ही सुनारिया जेल से निकाला गया है. फरलो देते हुए एक कड़ी शर्त यह रखी गई है कि वह 21 दिन पुलिस की निगरानी में रहेगा. उसका अधिकांश समय डेरे में ही व्यतीत होगा.

फरलो क्या है?
फरलो को जेल से अल्पकालिक रिहाई के रूप में माना जाता है. एक कैदी को कारावास की अवधि के बाद रिहा किया जा सकता है. एकता को तोड़ने के लिए खांचे दिए जाते हैं और इसलिए कैदी के सामाजिक और पारिवारिक संबंध हो सकते हैं.

Tags: Dera Sacha Sauda, Gurmeet Ram Rahim, Haryana news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें