Home /News /haryana /

harappan city dna samples of 2 skeletons now sent for analysis hrrm

हरियाणा के राखीगढ़ी में 5,000 साल पहले रहने वाली 2 महिलाओं के मिले कंकाल, DNA टेस्ट से हो सकता है बड़ा खुलासा

राखीगढ़ी में 2 महिलाओं के कंकाल मिले हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

राखीगढ़ी में 2 महिलाओं के कंकाल मिले हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Harappan Era City Site Excavation : ‘राखीगढ़ी के राखीखास और राखीशाहपुर में 7 टीले (RGR-1 से RGR-7) हैं. इनमें से आरजीआर-1, आरजीआर-3 और आरजीआर-7 में खुदाई हो रही है. इनमें आरजीआर-7 हड़प्पा काल में संभवत: कब्रिस्तान रहा होगा. वहीं से 2 महिलाओं के कंकाल करीब 2 महीने पहले मिले हैं.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

दोनों कंकालों के नमूने डीएनए टेस्ट के लिए भेजे गए.
दो चरणों का डीएनए टेस्ट होगा.

नई दिल्ली. भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण (ASI) को बड़ी सफलता मिली है. बताया जाता है कि हरियाणा के राखीगढ़ी (Rakhigarhi, Haryana) में हड़प्पा-काल के स्थल (Harappan Era City Site) की खुदाई के दौरान वहां विशेषज्ञों को 2 कंकाल मिले हैं. बताया जाता है कि ये कंकाल करीब 5,000 साल या इससे भी अधिक पहले रहने वाली महिलाओं के हैं. एएसआई के अधिकारियों के मुताबिक, दोनों कंकालों के नमूने डीएनए टेस्ट के लिए भेजे गए हैं. दो चरणों का डीएनए टेस्ट होगा. इसके बाद इस जांच के नतीजों के कई बड़े और अहम खुलासे हो सकते हैं.

एएसआई के संयुक्त महानिदेशक एसके मंजुल ने बताया, ‘राखीगढ़ी के राखीखास और राखीशाहपुर में 7 टीले (RGR-1 से RGR-7) हैं. इनमें से आरजीआर-1, आरजीआर-3 और आरजीआर-7 में खुदाई हो रही है. इनमें आरजीआर-7 हड़प्पा काल में संभवत: कब्रिस्तान रहा होगा. वहीं से 2 महिलाओं के कंकाल करीब 2 महीने पहले मिले हैं. विशेषज्ञों ने 2 सप्ताह पहले इनके डीएनए सैंपल इकट्‌ठे किए हैं. इन नमूनों को बीरबल साहनी इंस्टीट्यूट ऑफ पैलियोसाइंसेस, लखनऊ में जांच के लिए भेजा गया है. यहां से उन्हें आगे के फॉरेंसिक विश्लेषण के लिए भेजा जाएगा.’

मंजुल ने ‘हिंदुस्तान टाइम्स’ से बातचीत के दौरान बताया, ‘राखीगढ़ी में हड़प्पाकाल का जो स्थल है, वह अपने समय विकसित शहर रहा होगा. इस स्थल पर मिले महिलाओं के कंकाल की डीएनए जांच से हमें अब यह भी पता चलेगा कि ये महिलाएं वहीं उसी शहर की निवासी थीं. या फिर तब के हिंदुस्तान के किसी और इलाके से आई थीं. इसके अलावा उनकी खाने-पीने की आदतें कैसी थीं. किस किस्म का भोजन करती थीं. ऐसी और भी तमाम जानकारियां हमें उनके माध्यम से मिल सकेंगी. क्योंकि इन कंकालों के साथ दैनिक उपयोग की अन्य चीजें भी मिली हैं.’ 

पहली बार 1960 के दशक में हुए थे खुदाई के प्रयास

Tags: Haryana news, Hindi news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर