Home /News /haryana /

हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल का बयान- प्रदेश में खाद की कोई कमी नहीं, न ही रहेगी

हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल का बयान- प्रदेश में खाद की कोई कमी नहीं, न ही रहेगी

जेपी दलाल ने कहा- भारत सरकार से सहयोग लेकर प्रदेश में जैविक खाद को बढ़ाया जाएगा

जेपी दलाल ने कहा- भारत सरकार से सहयोग लेकर प्रदेश में जैविक खाद को बढ़ाया जाएगा

Haryana Agriculture Minister on Fertilizer: कृषि मंत्री जेपी दलाल ने बताया कि 2021-22 की रबी फसलों के लिए एसएसपी खाद की कुल एक लाख एमटी की जरूरत है. सरकार के पास आज तक 75 हजार 886 एमटी एसएसपी खाद की उपलब्धता है, जिसमें से अब तक 39 हजार 975 एमटी एसएसपी खाद किसानों को दिया जा चुका है. जोकि पिछले वर्ष एक अक्तूबर से लेकर 27 अक्तूबर 2020 तक 13 हजार 380 एमटी एसएसपी खाद किसानों को दिया जा चुका था.

अधिक पढ़ें ...

    चंडीगढ़. हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जेपी दलाल (JP Dalal) का कहना है कि प्रदेश में किसी भी प्रकार के खाद (Fertilizer) की कोई कमी नही हैं और निकट भविष्य में न ही कोई कमी रहेगी. केंद्र सरकार से डीएपी खाद के 6 रैक जल्द ही प्रदेश को मिल जाएंगे. दलाल ने यह बात बुधवार को चंडीगढ़ में पत्रकार वार्ता के दौरान कही. कृषि मंत्री ने कहा कि किसान अपनी अगामी फसल की तैयारी करें, उन्हें किसी भी प्रकार की चिंता करने की जरूरत नहीं है.

    कृषि मंत्री ने कहा कि किसानों को समय पर खाद मिलेगा. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने किसानों को अच्छी मंडिया, योजनाएं दी है और फसलों को एमएसपी रेट पर खरीदा जा रहा है. उन्होंने कहा कि किसानों को जैविक  खाद का उपयोग करना चाहिए, जिससे उनको मार्किट में फसलों, सब्जियों के अच्छे रेट मिल जाते हैं.

    जेपी दलाल ने कहा कि भारत सरकार से सहयोग लेकर प्रदेश में जैविक खाद को बढ़ाया जाएगा, जिसके लिए प्रदेश की गौशालाओं में गाय के गोबर से जैविक खाद तैयार कर उसको बेचा जाएगा और गौशालाओं की आय भी बढ़ेगी. उन्होंने ने कहा कि प्रदेश में 2021-22 की रबी फसलों के लिए यूरिया की कुल 11 लाख एमटी की जरूरत है. प्रदेश सरकार के पास आज तक कुल 2 लाख 60 हजार 56 एमटी यूरिया खाद की उपलब्धता है, जिसमें से अब तक 90 हजार एमटी से अधिक खाद किसानों को दिया जा चुका है. जो कि पिछले वर्ष एक अक्तूबर से लेकर 27 अक्तूबर 2020 तक 66 हजार 345 एमटी यूरिया खाद किसानों को दिया जा चुका था.

    जेपी दलाल ने बताया कि प्रदेश में 2021-22 की रबी फसलों के लिए डीएपी खाद की कुल 3 लाख एमटी की जरूरत है. सरकार के पास आज तक एक लाख 38 हजार 356 एमटी डीएपी खाद की उपलब्धता है, जिसमें से अब तक एक लाख 10 हजार 185 एमटी डीएपी खाद किसानों को दिया जा चुका है. जोकि पिछले वर्ष एक अक्तूबर से लेकर 27 अक्तूबर 2020 तक एक लाख 3 हजार 72 एमटी डीएपी खाद किसानों को दिया जा चुका था.

    इसी प्रकार उन्होंनेे बताया कि 2021-22 की रबी फसलों के लिए एनपीके खाद की कुल 0.50 एमटी की जरूरत है. सरकार के पास आज तक 20 हजार 937 एमटी एनपीके खाद की उपलब्धता है, जिसमें से अब तक 14 हजार 202 एमटी एनपीके खाद किसानों को दिया जा चुका है. जोकि पिछले वर्ष एक अक्तूबर से लेकर 27 अक्तूबर 2020 तक 2 हजार 648 एमटी एनपीके खाद किसानों को दिया जा चुका था.

    कृषि मंत्री ने कहा कि प्रदेश की मंडियों में अब तक 44.40 लाख एमटी धान आ चुकी है, जिसमें से 43.61 लाख एमटी धान की खरीद की जा चुकी है. उन्होंने बताया कि 36.85 लाख एमटी धान मंडियों से उठाई जा चुकी है और किसानों की 6200 करोड़ रुपये की राशि दी जा चुकी है. उन्होंनें बताया कि बासमती धान 25 अक्तूबर तक 4.68 लाख एमटी मंडियों में आ चुकी है, जिसमें से 4.56 लाख एमटी धान खरीद की गई.

    Tags: Fertilizer crisis, Fertilizer Shortage, Haryana Government

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर