SYL विवाद: हरियाणा और पंजाब के मुख्यमंत्री के बीच कल होगी बैठक, केंद्रीय जल शक्ति मंत्री भी रहेंगे मौजूद
Chandigarh-City News in Hindi

SYL विवाद: हरियाणा और पंजाब के मुख्यमंत्री के बीच कल होगी बैठक, केंद्रीय जल शक्ति मंत्री भी रहेंगे मौजूद
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होगी बैठक

एसवाईएल को लेकर केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र शेखवात (Gajendet Shekhawat) की अध्यक्षता में मंगलवार दोपहर 3 बजे बैठक होगी. हरियाणा (Haryana) के मुख्यमंत्री मनोहर लाल दिल्ली में ही रहेंगे मौजूद.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 17, 2020, 12:01 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. एसवाईएल (सतलुज यमुना लिंक नहर) के मुद्दे पर हरियाणा और पंजाब के मुख्यमंत्री के बीच बैठक होगी. एसवाईएल पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह कल बातचीत करेंगे. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (Video Conferencing) के जरिए दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों के बीच ये बातचीत होगी. इस बैठक में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र शेखवात भी मौजूद रहेंगे.

गौरतलब है पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने हरियाणा और पंजाब के मुख्यमंत्रियों को बातचीत करने को कहा था और केंद्र सरकार को मध्यस्था करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने कहा था. सुप्रीम कोर्ट ने बातचीत के लिए 3 सप्ताह का समय दिया था. कल दोनों राज्यों के मुख्यमंत्री बातचीत करेंगे. फिर बातचीत की रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में रखी जाएगी.

सुप्रीक कोर्ट ने हरियाणा के हक में कर रखी है डिक्री



बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने एसवाईएल नहर निर्माण को लेकर हरियाणा के हक में डिक्री कर रखी है. अब इसे लागू कराने की बात है. पंजाब ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि उसके पास हरियाणा को देने के लिए फालतू पानी नहीं है, लेकिन हरियाणा की दलील है कि वह फालतू या कम नहीं बल्कि अपने हिस्से का पानी मांग रहा है. हरियाणा और पंजाब के बीच बरसों से चले आ रहे इस विवाद को खत्म करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से कहा है कि वह दोनों राज्यों को आपस में बैठाकर सर्वसम्मति बना ले और जो भी फैसला हो, उसके बारे में सुप्रीम कोर्ट को जानकारी दे.
मुख्यमंत्री खट्टर ने कही थी ये बात

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट ने दोनों राज्यों को बातचीत करने के लिए कहा है और हम इसके लिए तैयार भी हैं. लेकिन, इसका मतलब यह कतई नहीं है कि हरियाणा अपने हक में आए फैसले तथा अपने हिस्से के पानी से कम पर मान जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज