Assembly Banner 2021

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने ईंधन की कीमतों में हुई वृद्धि को जायज बताया

खट्टर ने कहा कि ईंधन की कीमतों में बहुत ज्यादा वृद्धि नहीं हुई है, फिर भी सरकार इस पर निगाह रख रही है.

खट्टर ने कहा कि ईंधन की कीमतों में बहुत ज्यादा वृद्धि नहीं हुई है, फिर भी सरकार इस पर निगाह रख रही है.

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि पिछले 4-5 वर्षों में ईंधन की कीमतों में लगभग 10 से 15 फीसदी की वृद्धि हुई. कुल मिलाकर, यह बहुत अधिक बढ़ोतरी नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 22, 2021, 7:02 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ईंधनों की बढ़ती कीमतों (fuel prices) से आम जनता त्रस्त है. कुछ राज्यों में पेट्रोल (Petrol) की कीमत 100 रुपये प्रति लीटर के बिल्कुल करीब पहुंच गई है. रसोई गैस (LPG) की कीमत भी बढ़ी है. लोग ईंधन की बढ़ती कीमतों की आलोचना कर रहे हैं. इस बीच इस मुद्दे पर समाचार एजेंसी एनएनआई ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का बयान ट्वीट किया. अपने इस बयान में खट्टर ने पेट्रोल की बढ़ी कीमतों का बचाव किया है. उन्होंने यह भी कहा कि पिछले 4-5 वर्ष में ईंधन की कीमत में महज 10-15 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है, जो बहुत ज्यादा नहीं है. हालांकि इस बढ़ोतरी पर भी सरकार निगाह रख रही है.

एएनआई को दिए बयान में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि पिछले 4-5 वर्षों में ईंधन की कीमतों में लगभग 10 से 15 फीसदी की वृद्धि हुई. कुल मिलाकर, यह बहुत अधिक बढ़ोतरी नहीं है, लेकिन सरकार इस पर नजर रख रही है. सरकार द्वारा जो भी राजस्व एकत्र किया जाता है, उसका उपयोग लोगों के लिए किया जाता है, अन्य राज्यों की तुलना में हमारा वैट तुलनात्मक रूप से कम है.

मनोहर लाल खट्टर ने केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे कृषि आंदोलनों पर भी अपनी राय रखी. उन्होंने आंदोलनकारी किसानों को भरोसा दिलाना चाहा है कि ये कानून उनके फायदे के लिए हैं. उन्होंने इस बाबत कहा कि कृषि कानूनों को लागू करने के बाद अगर इससे किसी तरह का नुकसान होता है, तो हम उन चीजों को वापस लेने के लिए तैयार हैं. केंद्र सरकार ने कहा है कि कुछ गलत है, तो हम उसे ठीक करने को तैयार हैं. लेकिन जिन लोगों ने कानूनों को पढ़ा नहीं है, वे भी विरोध में शामिल हैं, तो यह किसान का विषय नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज