• Home
  • »
  • News
  • »
  • haryana
  • »
  • हरियाणा विधानसभा के नतीजों से नाराज़ अमित शाह, खट्टर को लगाई फटकार, दिल्ली किया तलब- सूत्र

हरियाणा विधानसभा के नतीजों से नाराज़ अमित शाह, खट्टर को लगाई फटकार, दिल्ली किया तलब- सूत्र

हरियाणा (Haryana) के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) ने दिल्ली तलब किया है. भाजपा (BJP) आलाकमान ने उन्हें दोपहर दो बजे तक दिल्ली (Delhi) पहुंचने को कहा है.

  • Share this:
    चंडीगढ़. हरियाणा (Haryana) के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) ने दिल्ली तलब किया है. भाजपा (BJP) आलाकमान ने उन्हें दोपहर दो बजे तक दिल्ली (Delhi) पहुंचने को कहा है. खट्टर राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा से भाजपा कार्यालय में मुलाकात करेंगे. सूत्रों के मुताबिक अमित शाह ने सीएम खट्टर को कड़ी फटकार लगाई है.

    विधानसभा चुनाव के टिकट वितरण में पार्टी के मेहनती चेहरों को पीछे करके गलत तरह से टिकट वितरण करने से अमित शाह नाराज हैं. करीब दो दर्जन विधानसभा सीटों पर बागियों ने बीजेपी का खेल बिगाड़ दिया है. कई सीटों पर निर्दलीय के तौर पर लड़ रहे बीजेपी के बागी कार्यकर्ता आगे चल रहे हैं. मनोहर लाल खट्टर अब से थोड़ी देर में चंडीगढ़ से हेलीकॉप्टर के जरिए दिल्ली पहुंचेंगे.

    गिनती में पीछे चल रहे हैं ये चार मंत्री
    हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019 के रुझानों में खट्टर के चार मंत्री पीछे चल रहे हैं. सोनीपत से कविता जैन, बादली से ओपी धनखड़, रादौर से कर्णदेव कंबोज और नारनौंद से कैप्टन अभिमन्यु गिनती में पीछे चल रहे हैं. वहीं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला भी टोहाना सीट से पीछे चल रहे हैं.

    40 का आंकड़ा पार नहीं करेगी कोई भी पार्टी: दुष्यंत चौटाला
    रुझानों के अनुसार, कोई भी पार्टी बहुमत के लिए जरूरी 46 सीटों का आंकड़ा पार नहीं करती दिख रही है. वहीं जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के दुष्यंत चौटाला का कहना है कि कि सत्ता की चाबी उनके पास रहेगी. कोई भी पार्टी नतीजों में 40 का आंकड़ा पार नहीं करेगी. इस बार विधानसभा में जेजेपी अहम भूमिका निभाएगी. सभी मिलकर फैसला लेंगे कि पार्टी को क्या करना चाहिए, क्या नहीं और अभी तो असलियत सामने आना बाकी है.

    हरियाणा की राजनीति में राजनीतिक घरानों की बड़ी भूमिका रही है. कुछ प्रमुख घराने ये हैं-

    रोहतक का हुडा परिवार
    हरियाणा में 2005 से 2014 तक मुख्यमंत्री रहने वाले का परिवार राज्य की सियासत में बड़ा राजघराना है. हुड्डा इस बार खुद चुनाव मैदान में हैं और माना जा रहा है कि अगर राज्य में कांग्रेस की सरकार बनती है तो हुड्डा ही फिर से मुख्यमंत्री होंगे. हुड्डा के पिता स्वतंत्रता संग्राम सेनानी रणबीर सिंह हुडा थे.

    भूपिंदर सिंह हुड्डा


    रणबीर सिंह हुड्डा हरियाणा के राज्य बनने से पहले ही 1952 से 1967 तक सांसद और केंद्रीय मंत्री भी रहे थे. भूपिंदर सिंह हुड्डा भी तीन बार सांसद भी रह चुके हैं. इस कुल की तीसरी पीढ़ी के दीपेंदर सिंह हुड्डा कांग्रेस के टिकट पर लगातार चार बार सांसद निर्वाचित हो चुके हैं.

    जाटलैंड का चौटाला परिवार
    70 के दशक में हरियाणा के मुख्यमंत्री बने देवीलाल का खानदान भी राज्य में बहुत प्रभावशाली है. देवीलाल के बेटे ओमप्रकाश चौटाला 4 बार प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. ओपी चौटाला के दो बेटे अजय और अभय चौटाला राजनीतिक रूप से बहुत प्रतिष्ठा नहीं पा सके.

    ओम प्रकाश चौटाला.


    इस परिवार की चौथी पीढ़ी के दुष्यंत चौटाला जननायक जनता पार्टी की स्थापना कर सियासत में तेजी से उभर रहे हैं. संभावना है कि इस चुनाव में दुष्यंत किंगमेकर की भूमिका निभाएंगे. परिवार की चौथी पीढ़ी में दुष्यंत के भाई दिग्विजय चौटाला और उनके चचेरे भाई अर्जुन चौटाला के नाम भी चर्चित हैं.

    ये भी पढे़ं - 

    'महाराष्ट्र के लिए जरूरी है शिवसेना, आदित्य ठाकरे को देखना चाहते हैं सीएम'

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज