हरियाणा सरकार का फैसला, उच्च शिक्षा संस्थानों और पॉलिटेक्निक में नहीं होगा सेमेस्टर एग्जाम
Chandigarh-City News in Hindi

हरियाणा सरकार का फैसला, उच्च शिक्षा संस्थानों और पॉलिटेक्निक में नहीं होगा सेमेस्टर एग्जाम
हरियाणा सरकार ने उच्च शिक्षण संस्थानों और पॉलिटेक्निक संस्थानों में सेमेस्टर परीक्षा नहीं लेने का निर्णय लिया है (फाइल फोटो)

राज्य के शिक्षा मंत्री कंवर पाल ने कहा कि छात्रों के पास विकल्प होगा कि वो हालात सामान्य होने पर परीक्षा में फिजिकल रूप से शामिल होकर अपने ग्रेड्स में सुधार कर सकें

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 23, 2020, 10:30 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. हरियाणा (Haryana) के उच्च शिक्षा संस्थानों और तकनीकी शिक्षण संस्थाओं (पॉलिटेक्निक) में सेमेस्टर की परीक्षाएं (Semester Exam) नहीं होंगी. इनमें पढ़ने वाले फाइनल ईयर के छात्रों (Final Year Students) को अन्य सेमेस्टर के छात्रों की तर्ज पर 50 प्रतिशत औसत अंकों के आधार पर प्रमोट किए जाएगा. फर्स्ट ईयर के छात्रों (First Year Students) को इंटरनल असेसमेंट के आधार पर अगली कक्षा में भेजा जाएगा. डिस्टेंस एजुकेशन और निजी छात्रों पर भी यही फॉर्मूला लागू होगा. न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार मंगलवार को प्रदेश के शिक्षा मंत्री कंवर पाल (Education Minister Kanwar Pal) ने कहा कि राज्य सरकार ने सेमेस्टर एग्जाम नहीं लेने का निर्णय लिया है.

उन्होंने कहा कि छात्रों के पास विकल्प होगा कि वो हालात सामान्य होने पर परीक्षा में फिजिकल रूप से शामिल होकर अपने ग्रेड्स में सुधार कर सकें.


यूनिवर्सिटी चाहें तो पूरी तैयारी के साथ ऑनलाइन एग्जाम करवा सकते हैं



शिक्षा मंत्री ने अपने बयान में कहा कि यदि कोई यूनिवर्सिटी चाहे तो वो ऑनलाइन एग्जाम कंडक्ट करवा सकता है. इसके लिए उसे मुक्कमल तैयारी करनी होगी. साथ ही यूनिवर्सिटी को यह भी सुनिश्चित करना होगा कि सभी छात्र ऑनलाइन परीक्षाओं में शामिल हों.

बता दें कि पहले हरियाणा के यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में फाइनल ईयर के छात्रों के लिए पहली जुलाई से 31 जुलाई तक एग्जाम कंडक्ट करने, और सात अगस्त को परिणाम जारी करने का शेड्यूल जारी किया था. इसमें अन्य राज्यों के फाइनल ईयर के स्टूडेंट को परीक्षा से छूट दी गई थी. बाद में स्टूडेंट यूनियन ने कोरोना वायरस का हवाला देते हुए एग्जाम नहीं लेने की मांग की. विवाद बढ़ने पर सरकार में सहयोगी जनतांत्रित जनता पार्टी (जेजेपी) भी छात्रों के समर्थन में खड़ी हो गई. जिसके बाद शिक्षा मंत्री कंवर पाल ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल से बातचीत कर परीक्षाएं नहीं लेने का निर्देश जारी किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज