Home /News /haryana /

चाचा ने पार्टी से किया बाहर, पिता जेल में, दुष्यंत बने हरियाणा के 'जननायक'

चाचा ने पार्टी से किया बाहर, पिता जेल में, दुष्यंत बने हरियाणा के 'जननायक'

दुष्यंत चौटाला के नाम सबसे कम उम्र में सांसद बनने का रिकॉर्ड भी है.

दुष्यंत चौटाला के नाम सबसे कम उम्र में सांसद बनने का रिकॉर्ड भी है.

एक साल पहले दुष्यंत चौटाला (Dusyant Chautala) और उनके पिता अजय चौटाला (Ajay Chautala) घर की लड़ाई में उलझे हुए थे. लड़ाई इस कदर बढ़ गई थी कि उनके चाचा अभय चौटाला ने उनके पिता अजय चौटाला को पार्टी से निकाल दिया. तब दिसंबर 2018 में दुष्यंत ने नई पार्टी जननायक जनता पार्टी (Jannayak Janata Party) बनाई.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. हरियाणा (Haryana)की राजनीति में जननायक जनता पार्टी (Jannayak Janta Party) के दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) नए किंग मेकर बनकर उभरे हैं. एक साल पहले वह और उनके पिता अजय चौटाला (Ajay Chautala) घर की राजनीति में उलझे हुए थे. लड़ाई इस कदर बढ़ गई थी कि उनके चाचा अभय चौटाला ने उनके पिता अजय चौटाला को पार्टी से निकाल दिया. इसके बाद दुष्यंत चौटाला ने अपनी पार्टी जननायक जनता पार्टी बनाई. आज वह हरियाणा की राजनीति के सबसे खास किरदार बन गए हैं. अब शायद ही उनकी मर्जी के बिना कोई सरकार हरियाणा में बने.

    2014 में शुरू किया राजनीति का सफर
    दुष्यंत चौटाला का सफर काफी दिलचस्प रहा है. दुष्यंत चौटाला का सफर 2014 के चुनावों से शुरू हुआ. इस चुनाव में उन्होंने हरियाणा जनहित कांग्रेस (बीएल) के कुलदीप बिश्नोई को 31,847 वोटों के अंतर से हराया था. इस चुनाव में वो सबसे कम उम्र के सांसद बने, इसके लिए उन्होंने लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कराया.

    अभय चौटाला ने अजय पर लगाए थे आरोप
    लोकसभा चुनावों से पहले चौटाला परिवार की लड़ाई खुलकर सड़क पर आ चुकी थी. इनेलो नेता अभय चौटाला ने अपने बड़े भाई डॉ. अजय चौटाला पर सनसनीखेज आरोप लगाते हुए कहा था कि उन्होंने पिछले चुनाव में 50-50 लाख रुपये में इनेलो के टिकट बेचे थे. इसके साथ ही उन्‍होंने दुष्‍यंत चौटाला को हिसार से सांसद बनवाने के लिए कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश धनखड़, कैप्टन अभिमन्यु, विधायक जयप्रकाश और नवीन जिंदल से हाथ मिलाकर पार्टी उम्मीदवारों को हराया.

    ऐसे पड़ी पार्टी में फूट
    जेबीटी घोटाले में अजय चौटाला के जेल जाने के बाद इंडियन नेशनल लोकदल की पूरी कमान उनके छोटे भाई अभय चौटाला के हाथ में आ गई थी. टीचर भर्ती घोटाले में ओमप्रकाश चौटाला और अजय चौटाला दोनों को 10-10 साल की जेल की सजा सुनाई गई है. यहीं से परिवार में लड़ाई शुरू हुई. 2018 में चाचा से लड़ाई के बाद दुष्यंत ने जननायक जनता पार्टी का गठन किया. दुष्यंत चौटाला ने आम आदमी पार्टी के साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ा था. लेकिन कामयाब नहीं हुए. यहां तक कि वह अपनी सीट भी नहीं बचा पाए. विधानसभा चुनाव से पहले बीएसपी और जेजेपी के बीच गठबंधन हुआ. हालांकि यह गठबंधन एक महीने भी नहीं चल पाया और बीएसपी ने अपने रास्ते अलग कर लिए.


    दुष्यंत चौटाला ने जब राजनीति में कदम रखा तब इंडियन नेशनल लोकदल बुरे दौर से गुजर रही थी. पार्टी को 2005 और 2009 के विधानसभा चुनाव में हार मिली. इन चुनावों में पार्टी का एक भी उम्मीदवार नहीं जीता. 2013 की शुरुआत में पार्टी के मुखिया ओम प्रकाश चौटाला और उनके बड़े बेटे अजय चौटाला को जेल जाना पड़ा.

     

    Tags: Abhay singh chautala, Dushyant chautala, Haryana Assembly Election 2019, Om Prakash Chautala

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर