लाइव टीवी

चाचा ने पार्टी से किया बाहर, पिता जेल में, दुष्यंत बने हरियाणा के 'जननायक'

News18Hindi
Updated: October 24, 2019, 2:07 PM IST
चाचा ने पार्टी से किया बाहर, पिता जेल में, दुष्यंत बने हरियाणा के 'जननायक'
दुष्यंत चौटाला के नाम सबसे कम उम्र में सांसद बनने का रिकॉर्ड भी है.

एक साल पहले दुष्यंत चौटाला (Dusyant Chautala) और उनके पिता अजय चौटाला (Ajay Chautala) घर की लड़ाई में उलझे हुए थे. लड़ाई इस कदर बढ़ गई थी कि उनके चाचा अभय चौटाला ने उनके पिता अजय चौटाला को पार्टी से निकाल दिया. तब दिसंबर 2018 में दुष्यंत ने नई पार्टी जननायक जनता पार्टी (Jannayak Janata Party) बनाई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 24, 2019, 2:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. हरियाणा (Haryana)की राजनीति में जननायक जनता पार्टी (Jannayak Janta Party) के दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) नए किंग मेकर बनकर उभरे हैं. एक साल पहले वह और उनके पिता अजय चौटाला (Ajay Chautala) घर की राजनीति में उलझे हुए थे. लड़ाई इस कदर बढ़ गई थी कि उनके चाचा अभय चौटाला ने उनके पिता अजय चौटाला को पार्टी से निकाल दिया. इसके बाद दुष्यंत चौटाला ने अपनी पार्टी जननायक जनता पार्टी बनाई. आज वह हरियाणा की राजनीति के सबसे खास किरदार बन गए हैं. अब शायद ही उनकी मर्जी के बिना कोई सरकार हरियाणा में बने.

2014 में शुरू किया राजनीति का सफर
दुष्यंत चौटाला का सफर काफी दिलचस्प रहा है. दुष्यंत चौटाला का सफर 2014 के चुनावों से शुरू हुआ. इस चुनाव में उन्होंने हरियाणा जनहित कांग्रेस (बीएल) के कुलदीप बिश्नोई को 31,847 वोटों के अंतर से हराया था. इस चुनाव में वो सबसे कम उम्र के सांसद बने, इसके लिए उन्होंने लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कराया.

अभय चौटाला ने अजय पर लगाए थे आरोप

लोकसभा चुनावों से पहले चौटाला परिवार की लड़ाई खुलकर सड़क पर आ चुकी थी. इनेलो नेता अभय चौटाला ने अपने बड़े भाई डॉ. अजय चौटाला पर सनसनीखेज आरोप लगाते हुए कहा था कि उन्होंने पिछले चुनाव में 50-50 लाख रुपये में इनेलो के टिकट बेचे थे. इसके साथ ही उन्‍होंने दुष्‍यंत चौटाला को हिसार से सांसद बनवाने के लिए कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश धनखड़, कैप्टन अभिमन्यु, विधायक जयप्रकाश और नवीन जिंदल से हाथ मिलाकर पार्टी उम्मीदवारों को हराया.

ऐसे पड़ी पार्टी में फूट
जेबीटी घोटाले में अजय चौटाला के जेल जाने के बाद इंडियन नेशनल लोकदल की पूरी कमान उनके छोटे भाई अभय चौटाला के हाथ में आ गई थी. टीचर भर्ती घोटाले में ओमप्रकाश चौटाला और अजय चौटाला दोनों को 10-10 साल की जेल की सजा सुनाई गई है. यहीं से परिवार में लड़ाई शुरू हुई. 2018 में चाचा से लड़ाई के बाद दुष्यंत ने जननायक जनता पार्टी का गठन किया. दुष्यंत चौटाला ने आम आदमी पार्टी के साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ा था. लेकिन कामयाब नहीं हुए. यहां तक कि वह अपनी सीट भी नहीं बचा पाए. विधानसभा चुनाव से पहले बीएसपी और जेजेपी के बीच गठबंधन हुआ. हालांकि यह गठबंधन एक महीने भी नहीं चल पाया और बीएसपी ने अपने रास्ते अलग कर लिए.
Loading...



दुष्यंत चौटाला ने जब राजनीति में कदम रखा तब इंडियन नेशनल लोकदल बुरे दौर से गुजर रही थी. पार्टी को 2005 और 2009 के विधानसभा चुनाव में हार मिली. इन चुनावों में पार्टी का एक भी उम्मीदवार नहीं जीता. 2013 की शुरुआत में पार्टी के मुखिया ओम प्रकाश चौटाला और उनके बड़े बेटे अजय चौटाला को जेल जाना पड़ा.

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 24, 2019, 1:29 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...