जहरीली शराब से मौत का मामला: हरियाणा सरकार ने जांच के लिए गठित की SIT

सरकार ने पीड़ित परिवारों के लिए 2-2 लाख के मुआवजे का ऐलान किया है. (सांकेतिक तस्वीर)
सरकार ने पीड़ित परिवारों के लिए 2-2 लाख के मुआवजे का ऐलान किया है. (सांकेतिक तस्वीर)

कथित रूप से जहरीली शराब (Poisonous liquor) के सेवन से पिछले कुछ दिनों में सोनीपत और पानीपत में कम से कम 31 लोगों की मौत हो गई.

  • Share this:
चंडीगढ़. हरियाणा सरकार (Haryana Government) ने रविवार को राज्य में जहरीली शराब (Poisonous liquor) के सेवन से मौतों की हालिया घटनाओं की जांच के लिए एक विशेष जांच दल का गठन किया. गृह मंत्री अनिल विज (Anil Vij) ने कहा कि अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (मादक पदार्थ) श्रीकांत जाधव के नेतृत्व में विशेष जांच दल (SIT) 15 दिनों के भीतर अपनी रिपोर्ट सौंपेगा.

गौरतलब है कि कथित रूप से जहरीली शराब का सेवन करने के बाद पिछले कुछ दिनों में सोनीपत और पानीपत में कम से कम 31 लोगों की मौत हो गई. विज ने कहा कि एसआईटी ऐसे अवैध शराब के कारणों और स्रोतों के बारे में जांच करेगी. उन्होंने कहा कि एसआईटी इस संबंध में प्राप्त सभी शिकायतों को भी देखेगी और राज्य में शराब की अवैध बिक्री पर रोक लगाने के लिए उपाय करेगी.

बता दें कि महानिरीक्षक (अंबाला रेंज) वाई पूरन कुमार, पुलिस अधीक्षक (कुरुक्षेत्र) राजेश दुग्गल, करनाल के एसपी गंगा राम पूनिया और मेवात के एसपी नरेंद्र बिजानिया एसआईटी में शामिल हैं.



दो-दो लाख मुआवजे की घोषणा 
इससे पहले मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने सोनीपत और पानीपत जिलों में जहरीली शराब पीने के कारण हुई लोगों की मृत्यु पर दुख और संवेदना प्रकट किया है. साथ ही सीएम ने मुआवजे के तौर पर दो-दो लाख रुपये देने की घोषणा की है. यह राहत राशि मुख्यमंत्री राहत कोष से दी जाएगी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस संबंध में पुलिस ने गिरफ्तारी की है और मामले में आगे की जांच जारी है. उन्होंने कहा कि इस नेटवर्क का पर्दाफाश करने के लिए कड़े दिशा-निर्देश दिए गए हैं.

सख्त कार्रवाई के आदेश

सीएम ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा शराब की अवैध बिक्री में शामिल पाए जाने वाले अधिकारी, कर्मचारी, ठेकेदार या शराब माफिया के खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी. उन्होंने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार द्वारा इस तरह मामलों को रोकने के लिए सख्त कार्रवाई की जा रही है.



हरियाणा  में सोनीपत और पानीपत में जहरीली शराब पीने के बाद लगातार हो रही मौतों  के बाद भी राज्य में अवैध शराब  की तस्करी रुकने ना नाम नहीं ले रही है. इसी क्रम में कैथल पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है. कलायत पुलिस ने मुखबिर की सूचना के आधार पर गांव शिमला के पास नाका लगाकर एक कैंटर रोका, जिसमें 500 पेटी अवैध शराब बरामद हुई. कैथल पुलिस ने इस कार्रवाई के दौरान एक शराब तस्कर को गिरफ्तार भी किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज