• Home
  • »
  • News
  • »
  • haryana
  • »
  • सरकारी मैगजीन में घूंघट को हरियाणा की शान बता कर फंसी खट्टर सरकार

सरकारी मैगजीन में घूंघट को हरियाणा की शान बता कर फंसी खट्टर सरकार

Photo- News18Hindi.com

Photo- News18Hindi.com

हरियाणा सरकार की मासिक पत्रिका हरियाणा संवाद के अंक में छपा घूंघट में ढकी एक महिला का फोटो सरकार के लिए मुसीबत बन गया है. दरअसल हरियाणा संवाद के लेटेस्ट एडिशन के मुख्यपेज पर एक घूंघट में खड़ी महिला का फोटो लगा है और बगल में स्लोगन लिखा है "घूंघट की आन बान -हमारे हरियाणा की पहचान" इस फोटो को लेकर हरियाणा की मनोहर लाल सरकार पर चौतरफा हमले हो रहे हैं.

  • Share this:
हरियाणा सरकार की मासिक पत्रिका हरियाणा संवाद के अंक में छपा घूंघट में ढकी एक महिला का फोटो सरकार के लिए मुसीबत बन गया है. दरअसल हरियाणा संवाद के लेटेस्ट एडिशन के मुख्यपेज पर एक घूंघट में खड़ी महिला का फोटो लगा है और बगल में स्लोगन लिखा है "घूंघट की आन बान -हमारे हरियाणा की पहचान" इस फोटो को लेकर हरियाणा की मनोहर लाल सरकार पर चौतरफा हमले हो रहे हैं.

महिला अधिकारों और महिलाओं के संरक्षण के लिए काम करने वाली महिलाओं और संगठनों ने सरकार को आड़े हाथों लेते हुए "घूंघट हरियाणा की शान" स्लोगन को बिलकुल गलत ठहराया है. महिलाओं और लड़कियों का कहना है की एक तरफ तो सरकार "बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ" का नारा दे रही है वहीं दूसरी और नारी को घूंघट में रखना चाह रही है.

हरियाणा के जींद के बीबीपुर गांव जोकि "बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ" और "सेल्फी विद डॉटर" जैसे अभियानों के लिए जाना जाता है वहां की महिलाओं का कहना है कि अगर उन्हें कल्पना चावला और सानिया मिर्जा बनना है तो वे कैसे घूंघट की आड़ में रहेंगी. जींद की नारी शक्ति का ये भी कहना है की खट्टर सरकार को इस स्लोगन को तुरंत वापिस लेना चाहिए.

घूंघट प्रथा को अपने गांव में और आसपास के गांवो में खत्म करवाने के लिये सबला कार्यक्रम चलाने वाले जींद के बीबीपुर गांव के पूर्व सरपंच सुनील जागलान का कहना है की जिस विभाग के अधिकारियों ने ये स्लोगन दिया है उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए.

सुनील के अनुसार एक और हरियाणा की बेटियां फेमिना मिस इण्डिया और डब्लूडब्लूइ में अपना परचम लहरा रही है दूसरी और इस तरह के स्लोगन पीड़ादायक है.

नारियों को घूंघट में रखने के सरकारी मैगजीन के स्लोगन को लेकर कांग्रेस ने भी हरियाणा सरकार पर हमला बोला है. कांग्रेस का कहना है कि एक और तो सरकार "बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ" जैसे अभियान चलाने का दावा करके वाहवाही लूटने में लगी है और वहीं दूसरी ओर नारियों के घुंघट में छिपे रहने को अपनी शान बता कर अपनी संकीर्ण मानसिकता का उदाहरण भी दे रही है.

कांग्रेस का कहना है कि सरकार की कथनी और करनी में कितना फर्क है और नारियों और उनकी हालत सुघारने को लेकर सरकार की क्या सोच है वो सरकार की इस मैगजीन पर लिखे स्लोगन ने साफ कर दिया है.

वहीं सरकार की किरकिरी होने के बाद इस मैगजीन को निकालने वाले पब्लिक रिलेशन डिपार्टमेंट की मंत्री कविता जैन तो पूरी तरह से चुप्पी साधे हुए हैं. अनिल विज से जब इस पूरे मुद्दे को लेकर सवाल किया गया तो वो परंपराओं की दुहाई देने और वो गोलमोल जवाब देने लगे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज