राम रहीम को उम्रकैद: खट्टर सरकार की इस अपील ने बिगड़ने से बचा ली कानून व्यवस्था
Chandigarh-City News in Hindi

राम रहीम को उम्रकैद: खट्टर सरकार की इस अपील ने बिगड़ने से बचा ली कानून व्यवस्था
मनोहरलाल खट्टर (file photo)

राम रहीम के पेशी को लेकर एक बार फिर से राज्य सरकार के लिए बड़ी चुनौती नजर आ रही थी. इससे पार पाने के लिए सरकार एक बार फिर से राम रहीम की पेशी के लिए विडियो कॉन्फ्रेंसिंग का सहारा लेने पर विचार कर रही थी

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 18, 2019, 12:52 PM IST
  • Share this:
पत्रकार छत्रपति हत्याकांड में दोषी करार दिए गए राम रहीम को पंचकूला की सीबीआई कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुना दी है. साध्वी यौन शोषण मामले में जब राम रहीम की सजा का ऐलान हुआ था तो डेरा समर्थकों ने जमकर उत्पात मचाया था. पंचकूला में डेरा समर्थकों ने जो कुछ भी मिला उसे आग के हवाले कर दिया. लेकिन इस बार हरियाणा सरकार की एक अपील ने इस मामले में कानून व्यवस्था को बेकाबू होने से बचा लिया.

दरअसल राम रहीम के पेशी को लेकर एक बार फिर से राज्य सरकार के लिए बड़ी चुनौती नजर आ रही थी. इससे पार पाने के लिए सरकार एक बार फिर से राम रहीम की पेशी के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग का सहारा लेने पर विचार कर रही थी. इस बाबत सरकार सीबीआई की विशेष अदालत से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये राम रहीम की पेशी के लिए दरखास्त दी.

सीबीआई अदालत ने मनोहर लाल खट्टर सरकार की इस दरखास्त को मान लिया और राम रहीम समेत चारों आरोपियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पेश किया गया. कोर्ट ने गुरुवार को राम रहीम सहित चारों आरोपियों को पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई. इस दौरान पंचकूला, रोहतक और सिरसा में सरकार की ओर से सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए थे. पिछली बार राम रहीम को सजा सुनाने के समय खट्टर सरकार ने जो भूल की थी, वो इसे दोबारा नहीं दोहराना चाहती थी.



हरियाणा की विशेष सीबीआई कोर्ट ने मंजूर की सरकार की याचिका
हरियाणा सरकार की ओर से डिस्ट्रिक्ट अटॉर्नी द्वारा लगाई गई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सजा सुनाने की याचिका को हरियाणा की विशेष सीबीआई कोर्ट ने मंजूर कर लिया था. इसके बाद पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्या के दोषी गुरमीत राम रहीम, कृष्ण लाल, निर्मल सिंह और कुलदीप सिंह को पंचकूला की सीबीआई कोर्ट में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सजा सुनाई गई.

साध्वी यौन शोषण मामले में फैसला आने पर पंचकूला में हुई थी हिंसा
25 अगस्त 2017 को राम रहीम को साध्वी यौन शोषण मामले में सजा सुनाने के बाद डेरा समर्थकों ने जमकर उत्पात मचाया. इस हिंसा के दौरान पंचकूला वासी अपने ही घरों में कैद होकर रह गए थे. इस दौरान करीब 42 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि सैकड़ों लोग घायल हो गए थे. हिंसा में करीब 100 से अधिक वाहन जलकर राख हो गए थे.

यह भी पढ़ें- PHOTOS: छत्रपति के परिवार को 16 साल बाद मिला इंसाफ, रहम की भीख मांगने लगा राम रहीम

ना मोदी ने बच्चे पालने हैं, ना योगी ने, भ्रष्टाचार हम होने नहीं देंगे: मुख्यमंत्री खट्टर

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज