हरियाणा की बेटी, महान नेत्री सुषमा स्वराज का जाना बहुत बड़ी क्षति: ओपी धनखड़

पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने ट्वीट कर श्रद्धांजलि देते हुए लिखा कि दिग्गज राजनेता,पूर्व केंद्रीय मंत्री, प्रखर वक़्ता और मेरी बहन सुषमा स्वराज जी के निधन से मुझे व्यक्तिगत क्षति हुई है.

News18 Haryana
Updated: August 7, 2019, 12:28 AM IST
हरियाणा की बेटी, महान नेत्री सुषमा स्वराज का जाना बहुत बड़ी क्षति: ओपी धनखड़
सुषमा स्वराज के निधन पर हरियाणा के नेताओं ने दी श्रद्धांजलि
News18 Haryana
Updated: August 7, 2019, 12:28 AM IST
पूर्व विदेश मंत्री और बीजेपी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज का दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया. वह 67 साल की थीं. वह लंबे समय से बीमार चल रही थीं. लोगों ने सुषमा स्वराज के निधन पर अपनी श्रद्धांजलि दी. सुषमा स्वराज का जन्म 14 फरवरी 1952 में अविभाजित पंजाब की अंबाला छावनी में हुआ था. उनके निधन पर हरियाणा के नेताओं ने भी उन्हें श्रद्धांजलि दी.

हरियाणा के कृषि मंत्री ओपी धनखड़ ने अपने ट्वीट में लिखा कि हरियाणा की बेटी, महान नेत्री सुषमा स्वराज का जाना बहुत बड़ी क्षति. विनम्र श्रद्धांजली परमपिता उन्हें अपने चरणों मे स्थान दें. उनकी स्मृतियां सदा हमें प्रेरित करेंगी.


वहीं पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने ट्वीट कर श्रद्धांजलि देते हुए लिखा कि दिग्गज राजनेता,पूर्व केंद्रीय मंत्री, प्रखर वक़्ता और मेरी बहन सुषमा स्वराज जी के निधन से मुझे व्यक्तिगत क्षति हुई है. उन्होंने हमेशा राजनीतिक दायरे से हटकर संबंधों को निभाया. ईश्वर से प्रार्थना है कि उनकी आत्मा को शान्ति एवं परिजनों, समर्थकों को ये दुःख सहने की शक्ति प्रदान करें.
Loading...




अंबाला में हुआ था जन्म

बता दें कि सुषमा स्वराज का जन्म 14 फरवरी 1952 में अविभाजित पंजाब की अंबाला छावनी में हुआ था. परिवार मूल रूप से पाकिस्तान के लाहौर का था, जो विभाजन के बाद अंबाला आ गया. सुषमा के पिता हरदेव शर्मा कट्टर सनातनी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सदस्य थे, लिहाजा घर में अक्सर राजनैतिक चर्चाएं फिजाओं में तैरा करती थीं. सुषमा ने अंबाला के सनातन धर्म कॉलेज से संस्कृत और राजनीति विज्ञान की पढ़ाई की.

इसी दौरान उन्हें कॉलेज की सर्वश्रेष्ठ छात्रा और अपने ओजस्वी भाषण की वजह से लगातार तीन सालों तक सर्वश्रेष्ठ वक्ता का पुरस्कार मिला. यहां से सुषमा चंडीगढ़ पहुंचीं और पंजाब विश्वविद्यालय से कानून की डिग्री ली. लॉ कॉलेज में भी सुषमा ने अपने प्रखर और स्पष्ट विचारों से जल्द ही विद्यार्थियों से लेकर प्रोफेसरों के बीच भी धाक जमा ली.

ये भी पढ़ें:

जब जम्मू-कश्मीर में हर आदमी पर खर्च हो रहे थे 92 हजार तब यूपी में सिर्फ 4300 रुपये!     

जम्मू-कश्मीर के हालात बदले, लेकिन 'घर वापसी' के लिए ये शर्त रख रहे हैं कश्मीरी पंडित!   
First published: August 7, 2019, 12:28 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...