रोडवेज अधिकारियों का महाघोटाला उजागर, हड़ताल में छपवाई नकली टिकटें

रोडवेज कर्मचारी नेता बलवान सिंह के मुताबिक 16 अक्टूबर से 2 नवंबर के बीच 18 दिन की सबसे लंबी हड़ताल हुई थी, जिसमें नकली टिकटों के जरिए ये घोटाला किया गया था.

News18 Haryana
Updated: June 14, 2019, 12:42 PM IST
रोडवेज अधिकारियों का महाघोटाला उजागर, हड़ताल में छपवाई नकली टिकटें
हरियाणा रोडवेज टिकट स्कैम
News18 Haryana
Updated: June 14, 2019, 12:42 PM IST
हरियाणा रोडवेज में 45 लाख का घोटाला और इसके खुलासे से विभाग में हड़कंप मच गया है. जांच रिपोर्ट में कई अधिकारियों के नाम सामने आ रहे हैं. करीब 100 पन्नों की रिपोर्ट विभाग के महानिदेशक को सौंपी गई है. रोडवेज कर्मचारी नेता बलवान सिंह के मुताबिक 16 अक्टूबर से 2 नवंबर के बीच 18 दिन की सबसे लंबी हड़ताल हुई थी, जिसमें नकली टिकटों के जरिए घोटाला किया गया.

डीजल और स्पेयर पार्ट्स में भी हुआ घोटाला



करनाल का घोटाला बड़ा होने की वजह से पहले सामने आ गया. रोडवेज कर्मचारियों की मानें तो हड़ताल के दौरान सिर्फ टिकट ही नहीं बल्कि डीजल और स्पेयर पार्ट्स में भी घोटाला हुआ है.

दोषियों के खिला होगी सख्त कार्रवाई

इस मामले में परिवहन मंत्री ने भी घोटाले की बात से इनकार नहीं किया है. उन्होंने दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की बात कही है. बता दें कि बीते साल 16 अक्टूबर से 2 नवंबर तक रोडवेज की हड़ताल हुई थी. कामकाज प्रभावित न हो इसके लिए आउटसोर्सिंग पर ड्राइवर और कंडक्टर रखे गए थे. इस दौरान करनाल डिपो के अधिकारियों ने करीब 94 लाख की फर्जी टिकटें छपवाई. ये नकली रोडवेज की टिकटें निजी प्रेस से छपवाई गईं.

जांच कमेटी बनाई गई

रोडवेज घोटाले की जांच के लिए 6 सदस्यीय कमेटी बनाई गई थी. कमेटी ने 100 पन्नो की अपनी जांच रिपोर्ट विभाग के महानिदेशक को सौंप दी है. सूत्रों के मुताबिक तत्कालीन डिपो महाप्रंधक, लेखा अधिकारी, ट्रैफिक मैनेजर पर एक्शन हो सकता है.
Loading...

ये भी पढ़ें- गुरुग्राम: इराकी नागरिक ने 8वीं मंजिल से फेंककर ली दो कुत्तों की जान, गिरफ्तार

ये भी पढ़ें- विधानसभा चुनाव: बीजेपी की इस समीक्षा के बाद हरियाणा के दो जाट नेताओं के लिए बढ़ी चुनौती!
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...