हरियाणा में जेजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाएगी बीजेपी, दुष्यंत चौटाला के पास होगा उपमुख्‍यमंत्री पद

गृह मंत्री अमित शाह के साथ बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, हरियाणा के मुख्यमंत्री एमएल खट्टर और जेजेपी नेता दुष्यंत चौटाला ने शुक्रवार देर हरियाणा में गठबंधन का ऐलान किया.

गृह मंत्री अमित शाह के साथ बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, हरियाणा के मुख्यमंत्री एमएल खट्टर और जेजेपी नेता दुष्यंत चौटाला ने शुक्रवार देर हरियाणा में गठबंधन का ऐलान किया.

हरियाणा (Haryana) में बीजेपी और जेजेपी गठबंधन (BJP-JJP Alliance) की सरकार बनने जा रही है. कयासों का दौर अब समाप्त हो चुका है. भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष (BJP President) और गृह मंत्री (Home Minister) अमित शाह (Amit Shah) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर तस्वीर साफ कर दी है.

  • Share this:

चंडीगढ़. हरियाणा (Haryana) में बीजेपी और जेजेपी गठबंधन (BJP-JJP Alliance) की सरकार बनने जा रही है. कयासों का दौर अब समाप्त हो चुका है. भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष (BJP President) और गृह मंत्री (Home Minister) अमित शाह (Amit Shah) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर तस्वीर साफ कर दी है. उन्होंने कहा कि हरियाणा के लोगों के बहुमत को मानते हुए बीजेपी और जेजेपी ने तय किया है कि दोनों पार्टियां मिलकर राज्य में सरकार बनाएंगी. राज्य में बीजेपी का मुख्यमंत्री होगा जबकि डिप्टी सीएम जेजेपी का होगा.

कुछ देर पहले ही दुष्यंत चौटाला बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से मिलने उनके निवास पर गए थे, जिसके बाद दोनों के बीच सरकार बनाने को लेकर आपसी सहमति की बात सामने आई है. खबर है कि दुष्यंत ने इसमें नौकरियों में 75 प्रतिशत आरक्षण की मांग की है. इसके अलावा जेजेपी के मेनिफेस्टो में जनता से किए गए कुछ वायदों को भी हरियाणा सरकार के एजेंडे में शामिल करने के लिए सहमति बन गई है.

स्पष्ट बहुमत ना मिलने से शुरू हुई मुश्किलें

24 अक्टूबर को आए नतीजों में किसी भी राजनीतिक दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला. काउंटिंग के दौरान ही प्रेस कॉन्फ्रेंस कर हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने जेजेपी सहित दूसरे निर्दलियों को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया था. उन्होंने पूरे मान सम्मान का आश्वासन भी दिया था. तब तक काउंटिंग में बीजेपी और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर थी लेकिन शाम तक आंकड़े बदल गए. आखिरी नतीजों में बीजेपी को 40, कांग्रेस को 31, जेजेपी को 10 सीटें मिलीं.
अमित शाह के साथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस



इसके बाद सरकार बनाने की जोर आजमाइश शुरू हो गई. कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही जेजेपी को मनाने की कोशिश में जुट गए. लेकिन जेजेपी ने अपने पत्ते नहीं खोले. मीडिया के पूछने पर दुष्यंत चौटाला ने यही जवाब दिया कि कोई भी फैसला विधायक दल की बैठक में फैसला लिया जाएगा. शुक्रवार को वो अपने पिता से मिलने तिहाड़ गए थे. फिर शाम को अमित शाह से मिलने जब उनके आवास पर पहुंचे तो सारे कयासों पर विराम लगा दिया और ऐलान किया कि जेजेपी खट्टर सरकार का हिस्सा बनने जा रही है.

गोपाल कांडा के समर्थन से बीजेपी ने किया इनकार

तमाम निर्दलीय मंत्री पद की मांग को लेकर अड़े थे इसी वजह से जेजेपी के साथ गठबंधन सरकार बनाने को बीजेपी को राजी होना पड़ा. अगर निर्दलीय विधायकों के साथ जाकर सरकार बनानी पड़ती तो कैबिनेट की तकरीबन आधी जगह निर्दलीय विधायकों को देनी पड़ती और साथ ही गोपाल कांडा का समर्थन लेने से बीजेपी को नैतिक आधार पर भी जवाब देना पड़ता.

ये भी पढ़ें:

हरियाणा: दिवाली के बाद होगा खट्टर सरकार का शपथ ग्रहण समारोह

अंबाला कैंट में ही मौजूद हैं अनिल विज, कहा- कोई राय लेगा तो अवश्य दूंगा

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज