होम /न्यूज /हरियाणा /नेतृत्‍व की कमी के चलते हारे विधानसभा चुनाव: दुष्‍यंत चौटाला

नेतृत्‍व की कमी के चलते हारे विधानसभा चुनाव: दुष्‍यंत चौटाला

Photo- News18.com

Photo- News18.com

इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के नेता दुष्‍यंत चौटाला ने कहा कि हरियाणा विधानसभा चुनाव में नेतृत्‍व की कमी की वजह से उनकी ...अधिक पढ़ें

  • News18
  • Last Updated :

    इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के नेता दुष्‍यंत चौटाला ने कहा कि हरियाणा विधानसभा चुनाव में नेतृत्‍व की कमी की वजह से उनकी पार्टी की हार हुई। हरियाणा में 10 साल से सत्‍ता दूर इनेलो के नेता दुष्‍यंत ने पहली बार चुनाव में हार पर प्रतिक्रिया दी है।

    एक अंग्रेजी अखबार से बातचीत में उन्‍होंने कहा कि पार्टी के दोनों प्रमुख नेता- ओम प्रकाश चौटाला और अजय चौटाला इस बार चुनाव नहीं लड़ सके। यही एकमात्र कारण रहा, जिसकी वजह से पार्टी को हार का सामना करना पड़ा। गौरतलब है कि दुष्‍यंत के दादा ओम प्रकाश चौटाला और पिता अजय चौटाला शिक्षक भर्ती घोटाले में दोषी करार दिए जा चुके हैं। हालांकि, चुनाव प्रचार के दौरान ओम प्रकाश चौटाला जमानत लेकर बाहर आए थे और रैलियां भी की थीं, लेकिन जनता ने अपील खारिज कर दी।

    लोकसभा चुनाव के बाद केंद्र की एनडीए सरकार को बिना शर्त समर्थन देने एलान करने वाले दुष्‍यंत चौटाला की पार्टी इन दिनों तीसरे मोर्चे के नेताओं से मेल-जोल बढ़ा रही है। हरियाणा विधानसभा चुनाव में तो बिहार के पूर्व सीएम नीतीश कुमार खुद इनेलो के लिए प्रचार करने आए थे।

    गुरुवार को तीसरे मोर्चे के नेताओं के साथ हुई मुलाकात पर भी दुष्‍यंत चौटाला ने बात की। उन्‍होंने कहा कि तीसरे मोर्चे के नेता मिले थे और इस दौरान हमने तय किया कि अगले लोकसभा सत्र के दौरान हम तीन अहम मुद्दे उठाएंगे। इनमें- काला धन, किसानों की बेहतरी के लिए स्‍वामीनाथन कमेटी की सिफारिशों को लागू करवाना और बेरोजगारी शामिल हैं। दुष्‍यंत ने यह भी साफ किया कि इनेलो ने तीसरे मोर्चे के नेताओं से मुलाकात जरूर की है, लेकिन तीसरे मोर्चे में शामिल पर अभी तक कोई फैसला नहीं हुआ है। उन्‍होंने कहा कि इस संबंध में कोई भी फैसला ओम प्रकाश चौटाला ही लेंगे।

    पार्टी का जनाधार बढ़ाने के बारे में सवाल पूछे जाने पर दुष्‍यंत ने कहा कि हम दिल्‍ली हाईकोर्ट के फैसले का इंतजार कर रहे हैं। हमने अपने दोनों नेताओं को शिक्षक भर्ती घोटाले में दोषी करार दिए जाने के खिलाफ अपील की है। उन्‍होंने यह भी बताया कि पार्टी जनवरी से एक अभियान शुरू करने जा रही है, जिसके तहत पार्टी और कार्यकर्ताओं को करीब लाने के प्रयास किए जाएंगे।

     

    Tags: Om Prakash Chautala

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें