Haryana: खट्टर सरकार का ऐलान, कोरोना में अनाथ हुए बच्चों को हर महीने मिलेंगे 2500 रुपये

बच्चों के लिए मुख्यमंत्री खट्टर ने किया बड़ा ऐलान. (फाइल फोटो)

बच्चों के लिए मुख्यमंत्री खट्टर ने किया बड़ा ऐलान. (फाइल फोटो)

हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए कोरोना में अनाथ हुए बच्चों के लिए एक बड़ी योजना लांच की है. इसके तहत बच्चों को हर महीने 2500 रुपये की राशि दी जाएगी.

  • Share this:

Manoj Kumar

चंडीगढ़. कोविड-19 (COVID-19) के दौरान अनाथ हुए बच्चों के लिए हरियाणा सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है. मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) ने बाल सेवा योजना का ऐलान किया है. इस योजना के तहत कोरोना संक्रमण की वजह अनाथ हुए बच्चों को सरकार हर महीने 2500 ₹ की आर्थिक मदद 18 साल की उम्र तक देगी. इसके अलावा हर साल ₹12000 भी इन बच्चों को अन्य खर्चों के लिए दिया जाएगा. यह राशि अनाथ बच्चों को मिलेगी जिनका पालन पोषण परिवार में ही हो रहा है. जिन बच्चों के देखभाल करने वाला परिवार का कोई सदस्य नहीं है उनकी देखभाल बाल देखभाल संस्थान करेंगे और बाल देखभाल संस्थान को 1500 रुपए प्रति बच्चा प्रति महीना 18 वर्ष तक सहायता भी सरकार द्वारा प्रदान की जाएगी. यह राशि अवधि जमा के रूप में बैंक खाते में डाल दी जाएगी और 21 वर्ष की आयु होने पर बच्चे को मैच्योरिटी राशि दे दी जाएगी. अन्य पूरा खर्चा बाल देखभाल संस्थान द्वारा किया जाएगा.

इसके अलावा हरियाणा सरकार के बाल गृहों में पालन पोषण होने पर सरकार पूरा खर्च उठाएगी. इन बच्चों का बैंक खाता खुलवा कर इसमें 1500 रुपये प्रति महीने 18 साल की उम्र तक जाम कराए जाएंगे.  सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा किशोर अवस्था में अनाथ हुई बच्चियों को कस्तूरबा गांधी विद्यालयों में मुफ्त आवासीय शिक्षा दी जाएगी. ऐसी बच्चियों की शादी के लिए अभी से उनके बैंक खाते में 51 हजार रुपये जमा कराए जाएंगे. वोकेशनल स्टडीज के छात्रों को सरकार टैब भी उपलब्ध कराएगी. यह लाभ कोविड की पहली लहर और दूसरी लहर के दौरान अनाथ हुए बच्चों को मिलेगा.

सरकार में बड़ा फैसला
हरियाणा में सरकार ने 15 जून तक स्कूलों की छुट्टी  घोषित कर दी है. हालांकि, शैक्षणिक और गैर शैक्षणिक स्टाफ को स्कूल आना होगा. कोरोना के कहर को देखते हुए सरकार ने यह फैसला लिया है. प्रदेश के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल इस दौरान बंद रहेंगे. बता दें कि महामारी से बच्चों को बचाने के लिए प्रदेश में 22 अप्रैल से 31 मई तक ग्रीष्मकालीन अवकाश घोषित किया गया था जिसे 15 दिन के लिए बढ़ा दिया गया है. पिछले कुछ दिनों से चर्चाएं चल रही थीं कि राज्‍य में स्‍कूल 1 जून से खुल सकते हैं.

शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने साफ कर दिया कि स्कूल खोलकर बच्चों को जोखिम में नहीं डाला जा सकता. लॉकडाउन में ढील देकर बाजार खोलने की बात और है तथा स्कूलों को खोलने की और. उन्होंने कहा कि स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में होने के बाद ही स्कूलों को खोलने पर विचार किया जाएगा. फिलहाल सभी सरकारी और निजी स्कूलों में ग्रीष्मकालीन अवकाश 15 जून तक बढ़ा दिया गया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज