Home /News /haryana /

मोदी सरकार जाट आरक्षण के पक्ष में है : बीरेंद्र सिंह

मोदी सरकार जाट आरक्षण के पक्ष में है : बीरेंद्र सिंह

केंद्रीय मंत्री बीरेद्रं सिह ने कहा है कि केंद्र सरकार जाट आरक्षण को लागु करने के पक्ष में है, लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद सरकार इस बात पर नए सिरे से विचार कर रही है. सरकार विचार कर रही है कि कैसे इसे लागू किया जाए.

केंद्रीय मंत्री बीरेद्रं सिह ने कहा है कि केंद्र सरकार जाट आरक्षण को लागु करने के पक्ष में है, लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद सरकार इस बात पर नए सिरे से विचार कर रही है. सरकार विचार कर रही है कि कैसे इसे लागू किया जाए.

केंद्रीय मंत्री बीरेद्रं सिह ने कहा है कि केंद्र सरकार जाट आरक्षण को लागु करने के पक्ष में है, लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद सरकार इस बात पर नए सिरे से विचार कर रही है. सरकार विचार कर रही है कि कैसे इसे लागू किया जाए.

केंद्रीय मंत्री बीरेद्रं सिह ने कहा है कि केंद्र सरकार जाट आरक्षण को लागु करने के पक्ष में है, लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद सरकार इस बात पर नए सिरे से विचार कर रही है. सरकार विचार कर रही है कि कैसे इसे लागू किया जाए.

बीरेंद्र सिंह ने पूर्व मुख्यमंत्री भुपेंद्र सिह हुडडा पर चुटकी लेते हुए कहा कि अब उन्हें राजनिति छोड देनी चहिए. केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री बीरेंद्र सिंह हिसार के लाला लाजपत राय पशु चिकित्सा विश्वविद्यालय के एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने आए थे. यहां कार्यक्रम में पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि मोदी सरकार जाट आरक्षण के पक्ष में है, लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद हालात बदल गए हैं.

हुडडा द्वारा उन्हें कांग्रेस में वापस लाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि अब यह संभव नहीं है, लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री ने 10 साल राज किया है, अब वापसी संभव नहीं. ऐसे में उन्हें अब राजनीति से संन्यास ले लेना चाहिए.

पशुधन विकास में महिलाओं का सहशक्तिकरण नामक इस कार्यक्रम में मौजूद महिलाओं को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आज केवल खेती से गुजारा संभव नहीं है. ऐसे मे पशुपालन महत्वपूर्ण है. हरियाणा में पशुपालन का काम महिलाएं करती हैं. ऐसे में महिलाओं को पशुओं की नस्ल, उनकी बीमारियों व पशुओं से संबधित हर जानकारी होनी चहिए. इससे वे काम को और ज्‍यादा मुनाफे वाला बना पाएंगी.
आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर