हरियाणा: राशन डिपुओं में इस महीने नहीं मिलेगा सरसों का तेल, 11 लाख गरीब परिवारों को झटका

डिपुओं में नहीं मिलेगा तेल

डिपुओं में नहीं मिलेगा तेल

Haryana News: राज्य के खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने अब अगले आदेश तक राशन डिपुओं को सरसों का तेल नहीं देने के निर्देश जारी किए हैं.

  • Share this:

चंडीगढ़. हरियाणा में इस महीने राशन डिपुओं पर सरसों का तेल (Mustard Oil) नहीं मिलेगा. खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने पत्र जारी कर कहा है कि हैफेड (Hafed) के पास सरसों की उपलब्धता न होने के कारण जून महीने में सरसों का तेल वितरित नहीं किया जाएगा. सरसों के तेल का वितरण अगले आदेशों तक रोक दिया गया है. प्रदेश में राशन की दुकानों पर खाद्यान्न के साथ साथ सरसों का तेल भी लाभार्थियों को दिया जाता था. इस फैसले से राज्य के 11 लाख गरीब परिवारों को बड़ा झटका लगने वाला है.

बता दें कि हरियाणा में अंत्योदय अन्न योजना (AAY) और गरीबी रेखा से नीचे (BPL) के परिवारों को हर महीने दो लीटर सरसों का तेल 20 रुपये प्रति लीटर प्रति परिवार की दर से उपलब्ध कराया जाता है. प्रदेश में एएवाई (गुलाबी कार्ड) राशन कार्डों की संख्या दो लाख 48 हजार 134 और बीपीएल (पीला कार्ड) के आठ लाख 92 हजार 744 राशन कार्ड हैं जिन्हें रियायती दरों पर सरसों तेल दिया जाता है.

महंगी दरों पर खरीदना पड़ेगा सरसों तेल 

सरकार के अगले आदेश तक इन्हें बाजार से महंगी दरों पर सरसों तेल खरीदना पड़ेगा. खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के अतिरिक्त निदेशक ने सरसों तेल के वितरण में असमर्थता जताते हुए एनआइसी को इस संबंध में लिखित अनुरोध किया है. प्रदेश सरकार को अपनी तेल मिलों के लिए खुले बाजार से सरसों खरीदनी पड़ेगी. प्रदेश सरकार ने इस बार सरसों की खरीद के लिए 4650 रुपये प्रति क्विंटल न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) तय किया था, जबकि किसानों को खुले बाजार में 7000 से 7500 रुपये प्रति क्विंटल तक दाम मिले.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज