CM के साथ हुई बैठक में भी नहीं मानें सफाई कर्मचारी, जारी रहेगी हड़ताल

बैठक में कर्मचारियों की कई मांगों पर चर्चा हुई जिस पर सफाई कर्मचारी यूनियन के सभी नेता अभी सहमत नहीं हुए हैं.

News18 Haryana
Updated: May 16, 2018, 5:34 PM IST
CM के साथ हुई बैठक में भी नहीं मानें सफाई कर्मचारी, जारी रहेगी हड़ताल
मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर
News18 Haryana
Updated: May 16, 2018, 5:34 PM IST
हरियाणा में पिछले 1 हफ्ते से सफाई कर्मचारी हड़ताल पर हैं. शहरों में कूड़े के ढेर लगातार बड़े होने लगे हैं और सफाई व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा चुकी है. इसी बीच विदेश दौरे से लौटे मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने बुधवार को चंडीगढ़ में सफाई कर्मचारी यूनियनों के प्रतिनिधिमंडल के साथ लंबी वार्ता की. इस बैठक में शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन भी मौजूद रहीं.

बैठक में कर्मचारियों की कई मांगों पर चर्चा हुई, जिस पर सफाई कर्मचारी यूनियन के सभी नेता अभी सहमत नहीं हुए हैं. हालांकि कैबिनेट मंत्री कविता जैन ने कहा कि भारतीय मजदूर संघ से जुड़ी कर्मचारी यूनियनों ने हड़ताल वापस लेने का फैसला कर लिया है. लेकिन बैठक से बाहर आए दूसरे सफाई कर्मचारी यूनियन के नेताओं ने साफ कर दिया कि उन्होंने अपनी हड़ताल वापस नहीं ली है.

सफाई कर्मचारी संघ अपनी तमाम मांगे पूरी करवाने को लेकर अड़ा है. सफाई कर्मचारी संघ के अध्यक्ष नरेश शास्त्री ने कहा कि सरकार के साथ उनकी बैठक बेनतीजा रही है. फिलहाल हड़ताल जारी रहेगी.
शास्त्री ने कहा ये बैठक ना सफल है और ना ही असफल. उन्होंने कहा कल यानि गुरुवार को रोहतक में राज्य कार्यकारिणी की बैठक होगी. जिसमें अगली रणनीति तय करेंगे.

शास्त्री ने बताया कि सरकार ने भरोसा दिया है सफाई का सीवर का ठेका जैसे जैसे खत्म होगा, उसको पूरी तरह खत्म किया जाएगा. साथ ही दमकल केंद्रों में ठेकेदार के माध्यम से लगे कर्मचारियों को नियमित भर्ती में वरीयता देने का वादा किया है. शास्त्री ने कहा कि सरकार मुख्य मांगों को मानने के लिए तैयार नहीं है. उन्होंने कहा कि कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने, न्यूनतम वेतन 15 हजार रुपये देने, समान काम समान वेतन देने की मुख्य मांग हैं. सरकार से इन मांगों पर कोई सहमति नहीं बन पाई है.

बैठक में शामिल रहे सर्व कर्मचारी संघ के महासचिव सुभाष लांबा ने कहा कि सरकार सफाई कर्मचारियों की मांगों को गंभीरता से नहीं ले रही है. इसीलिए बैठक में कोई सहमति नहीं बन पाई है.


उन्होंने सरकार से कर्मचारियों की मांगे पूरी करने की अपील की. वहीं शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन ने कर्मचारी नेताओं के साथ सरकार की बातचीत को सफल बताते हुए कहा कि समान काम समान वेतन पर सरकार ने एक कमेटी बनाने का फैसला किया है. उन्होंने कहा कि सीएस की अध्यक्षता में बनी कमेटी इसी महीने में रिपोर्ट देगी.

कविता जैन ने कहा कि सफाई विशेष भत्ता साढ़े तीन सौ रुपये से बढ़ा कर एक हजार रुपए कर दिया गया है. कविता जैन ने कहा कि सफाई के लिए जैसे-जैसे ठेके की अवधि पूरी होगी, उसके साथ ही ठेकेदारों के ठेके खत्म होंगे.

ये भी पढ़ें- नवजात बच्ची को कैरीबैग में डालकर बेचने के लिए अस्पताल पहुंचा बाप

स्‍कूल बस से उतरा और उसी की चपेट में आ गया छह साल का भूमन

पंजाब में कर्ज न चुका पाने से परेशान पांच किसानों ने की खुदकुशी
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर