लाइव टीवी
Elec-widget

OPINION: मोदी सरकार की कोशिशों से खुला करतारपुर कॉरिडोर

Anil Rai | News18 Haryana
Updated: November 12, 2019, 12:07 PM IST
OPINION: मोदी सरकार की कोशिशों से खुला करतारपुर कॉरिडोर
550वें प्रकाश पर्व पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का तोहफा

गुरुनानाक देव के 550 जन्मोत्सव पर होने वाले प्रकाश पर्व के ठीक पहले 9 नवम्बर को करतारपुर कॉरिडोर खोल दिया गया, ये ऐसा मौका था जिसका देश के लाखों सिख श्रद्धालु वर्षों से इंतजार कर रहे थे.

  • Share this:
दिल्ली. पूरा देश आज गुरुनानक देव जी (Guru Nanak Dev Ji) के 550वें जन्मदिन को प्रकाश पर्व के रुप में मना रहा है, ऐसे में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने करतारपुर कॉरिडोर को खोलने समेत सिख समुदाय की ऐसी कई मागों को पूरा करने का भरोसा दिलाया है जो वर्षों से लम्बित थी. 9 नवम्बर को करतारपुर कॉरिडोर खोले जाने के समय प्रधानमंत्री ने ऐलान किया कि सिख समुदाय से जूड़े विशेष स्थानों को जोड़ने के लिए एक विशेष ट्रेन हफ्ते में 5 दिन चलाई जाएगी.

साथ ही देश भर में स्थित सिखों के अहम स्थानों अकाल तख्त, दमदमा साहिब, तेजगढ़ सहिब, पटना साहिब, हुजूर साहिब  के बीच रेल और हवाई सेवा की जल्द से जल्द शुरु किया जा सकता है. इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने ऐसी कई घोषणाएं कि जिनकी मांग सिख समुदाय वर्षों से कर रहा था.

लाखों सिख श्रद्धालुओं को दिया तोहफा

गुरुनानाक देव के 550 जन्मोत्सव पर होने वाले प्रकाश पर्व के ठीक पहले 9 नवम्बर को करतारपुर कॉरिडोर खोल दिया गया, ये ऐसा मौका था जिसका देश के लाखों सिख श्रद्धालु वर्षों से इंतजार कर रहे थे. लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार ने इसे मूर्त रूप दिया और इन लाखों श्रद्धालुओं की वर्षों पुरानी ख्वाहिश पूरी हुई.  वैसे तो करतारपुर कॉरिडोर की बात 1999 में तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और तत्कालीन पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के बीच शुरु हो गई थी लेकिन बात आगे नहीं बढ़ पाई. उसके बाद देश में कई सरकारें आई और चली गई लेकिन किसी भी सरकार ने इस मुद्दे पर उस गंभीरता से नहीं लिया जितना प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनकी सरकार ने लिया और इसका ही असर था कि एक साल में करतारपुर कॉरिडोर का काम पूरा कर लिया गया.

तनाव के माहौल में समय से पूरा करया कॉरिडोर का काम

5 अगस्त के जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाए जाने के बाद भारत पाकिस्तान में तनाव चरम पर था. दोनों देश एक दूसरे के खिलाफ बयानों का आग उगल रहे थे. एक वक्त ऐसा भी आया जब लगा कि 5 अगस्त 2019 के बाद भारत पाकिस्तान के बीच खराब हो रहे रिश्तों का असर करतारपुर कॉरिडोर पर भी पड़ेगा और शायद तय वक्त पर कॉरिडोर खुल न पाए. लेकिन जिस तरह भारत सरकार और विदेश विभाग के अधिकारियों ने प्रधनामंत्री मोदी के नेतृत्व में इन तनाव के समय में भी पाकिस्तान पर इस कॉरिडोर के लिए दबाव बनाए रखा.

पीएम मोदी का दिल बड़ा
Loading...

उसका ही असर था कि भारत पाकिस्तान के तनाप पूर्ण रिश्ते का असर इस कॉरिडोर के निर्माण पर नहीं पड़ा और कॉरिडोर का काम समय से पूरा हो गया. प्रधानमंत्री मोदी के बड़े दिल का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि 5 अगस्त के बाद दोनों देशों के बीच बढ़े तनाव के बाद भी उन्होंने इस कॉरिडोर के खोले जाने में सहयोग के लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान नियाजी को खुले मंच से धन्यावाद दिया.

ये भी पढ़ें-

करतारपुर कॉरिडोर के शुरू होने पर पाकिस्‍तानी ड्राइवर ने जीता दिल, कहा - 'बहुत खुशी है कि आप यहां हैं'

करतारपुर कॉरिडोर के खुलने से भारत-पाकिस्तान संबंधों में काफी सुधार होगा: मनमोहन सिंह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 12:07 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...