महिलाओं के संपर्क में ना आएं साधु इसलिए उन्हें नपुंसक बनाता था राम रहीम

साधुओं को नपुंसक बनाने के पीछे राम रहीम का एक अन्य बड़ा उद्देश्य ये था कि पुरुष साधु किसी भी हाल से महिला साध्वियों के संपर्क में ना आ सके और दोनों के बीच आपस में रिश्ता ना बन सके.

ETV Haryana/HP
Updated: February 13, 2018, 11:42 AM IST
महिलाओं के संपर्क में ना आएं साधु इसलिए उन्हें नपुंसक बनाता था राम रहीम
गुरमीत राम रहीम
ETV Haryana/HP
Updated: February 13, 2018, 11:42 AM IST
गुरमीत राम रहीम के खिलाफ डेरा सच्चा सौदा के 400 साधुओं को नपुंसक बनाने के मामले की चार्जशीट के अहम दस्तावेज न्यूज़ 18 के हाथ लगे हैं और साथ ही पता लगा है गुरमीत राम रहीम का साधुओं का नपुंसक बनाने का मकसद क्या था. इस चार्जशीट में सीधे तौर पर लिखा गया है कि अपने श्रद्धालु साधुओं को डेरे पर पूरे जीवन के लिए निर्भर और इनका इस्तेमाल दास की तरह करने के इरादे से गुरमीत राम रहीम ने 1999 से लगातार साधुओं को नपुंसक बनाना शुरू कर दिया था.

साधुओं को नपुंसक बनाने के पीछे एक अन्य बड़ा उद्देश्य ये था कि पुरुष साधु किसी भी हाल से महिला साध्वियों के संपर्क में ना आ सके और दोनों के बीच आपस में रिश्ता ना बन सके.

इस चार्जशीट में 1999 की एक घटना का भी जिक्र है जब गुरमीत राम रहीम के करीबी और डेरा सच्चा सौदा की मैनेजमेंट कमेटी के मेंबर सुखदेव सिंह दीवाना ने एक साधु को महिला साध्वियों को देखते और उनसे बात करते हुए पकड़ा था, जिसके बाद उस साधु को जबरदस्ती नपुंसक बना दिया गया.

इस घटना के बाद गुरमीत राम रहीम इतना ज्यादा गुस्से में आ गया था कि उसने खुलेआम युवा पुरुष साधुओं को धमकाते हुए कहा था कि अगर डेरे में रहना है तो तुम्हें नपुंसक बनना पड़ेगा और उसके निशाने पर युवा और गरीब साधु ज्यादा होते थे.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर