CM का बड़ा ऐलान, PPP कार्ड से लिंक होंगी सरकार की ये योजनाएं, एक क्लिक में मिलेगा फायदा
Chandigarh-City News in Hindi

CM का बड़ा ऐलान, PPP कार्ड से लिंक होंगी सरकार की ये योजनाएं, एक क्लिक में मिलेगा फायदा
एक क्लिक में घर बैठे लोगों को सरकार की योजनाओं का लाभ मिलेगा.

सीएम मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) ने कहा कि अगले तीन माह में सभी विभागों की कल्याणकारी योजनाओं को परिवार पहचान पत्र (PPP) के साथ जोड़ा जाएगा. फिलहाल तीन पेंशन योजनाएं - वृद्धावस्था सम्मान भत्ता योजना, दिव्यांग जन पेंशन योजना और विधवा और निराश्रित महिला पेंशन योजना को परिवार पहचान पत्र के साथ जोड़ा गया है.

  • Share this:
चंडीगढ़: सूबे के आखिरी पात्र व्यक्ति तक हरियाणा सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पहुंचाने के उद्देश्य को पूरा करने के लिए अब परिवार पहचान पत्र बनाए जा रहे हैं. यह बात हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल (Manohar Lal Khattar) ने पंचकूला में आयोजित परिवार पहचान पत्र वितरण समारोह में कही. नागरिकों को निष्पक्ष और पारदर्शी तरीके से केंद्र तथा राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ उनके घर तक पहुंचाने के लिए ई-गवर्नेंस की एक अनूठी पहल की शुरुआत की गई है. मुख्यमंत्री खट्टर ने मंगलवार को परिवार पहचान पत्र (PPP) योजना के तहत 20 परिवारों के मुखियाओं को पहचान पत्र  वितरित किए. इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला, केंद्रीय जल शक्ति राज्य मंत्री रतन लाल कटारिया और विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता भी उपस्थित थे.

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि अगले तीन माह में सभी विभागों की कल्याणकारी योजनाओं को परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) के साथ जोड़ा जाएगा. फिलहाल तीन पेंशन योजनाएं - वृद्धावस्था सम्मान भत्ता योजना, दिव्यांग जन पेंशन योजना और विधवा और निराश्रित महिला पेंशन योजना को परिवार पहचान पत्र के साथ जोड़ा गया है. पंचकूला के अलावा, वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से इस कार्यक्रम से जुड़े राज्य के बाकि 21 जिलों में भी सांसदों, विधायकों और अन्य प्रमुख हस्तियों द्वारा लाभार्थियों को परिवार पहचान पत्र वितरित किए गए.

ई-गवर्नेंस की पहल



मुख्यमंत्री खट्टर ने कहा कि वर्ष 2020 को सुशासन संकल्प वर्ष के रूप में मनाने का संकल्प लिया था. इसी कड़ी में नागरिकों को विभिन्न योजनाओं का लाभ उनके घर तक पहुंचाने के लिए परिवार पहचान पत्र योजना की शुरुआत की गई है. पीपीपी के साथ सभी विभागों की योजनाओं के एकीकरण से न केवल सेवाओं का प्रभावी और कुशल वितरण सुनिश्चित होगा बल्कि सिस्टम में भ्रष्टाचार और लालफीताशाही से संबंधित शिकायतों पर भी अंकुश लगेगा. सीएम ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य में सुशासन प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है और कई ई-गवर्नेंस की पहल कर चुकी है, जिसमें मेरी फसल मेरा ब्योरा योजना, राजस्व रिकॉर्ड का डिजिटलाइजेशन, हरियाणा उधम मेमोरेंडम (एचयूएम) पोर्टल की शुरुआत करने जैसे कई अन्य गतिविधियां शामिल हैं. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने हर परिवार को एक अलग पहचान प्रदान करने के लिए परिवार पहचान पत्र तैयार करने के लिए अभियान शुरू किया है. राज्य में 56 लाख परिवारों के उपलब्ध रिकॉर्ड में से 18.19 लाख परिवारों का डाटा तैयार किया गया है और इन परिवारों को परिवार पहचान पत्र प्रदान किया जा रहा है.
ये भी पढ़ें: हल्द्वानी: Corona से पति की मौत, पत्नी ने 3 बेटियों समेत खाया जहर, हालत नाजुक

'20 लाख परिवारों को मिलेगा लाभ'

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि अगस्त 2020 के अंत तक अतिरिक्त 20 लाख परिवारों को पहचान पत्र वितरित किए जाएंगे. ‌सितंबर माह में वितरित किए जाने वाले बाकि परिवारों के पहचान पत्र के लिए आवश्यक सत्यापन का कार्य इस महीने पूरा हो जाएगा. उन्होंने कहा कि आंकड़ों के संग्रहण और सत्यापन कार्य के लिए 27 अगस्त से 31 अगस्त, 2020 तक चार दिवसीय विशेष शिविरों का आयोजन ग्राम स्तर और सभी नगर निकायों में वार्ड अनुसार किया जाएगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि परिवार पहचान पत्र के वितरण के बाद राज्य सरकार ऐसे परिवारों की शिक्षा, स्वास्थ्य, पेंशन आदि से संबंधित जरूरतों का ही ध्यान नहीं रखेगी बल्कि युवाओं के कौशल और रोजगार को भी बढ़ावा देगी.

ये भी पढ़ें: Unlock-3.0: कल से राजस्थान में खुलेंगे जिम और योगा सेंटर, वर्कआउट से पहले जानें नए नियम

इन योजनाओं का लाभ प्राप्त करने के लिए पात्र लाभार्थियों को केवल एक बार ही उनके निकटतम सरल या अंत्योदय केंद्र पर जाकर एक फॉर्म भरना होगा. सीएम ने कहा कि परिवार पहचान पत्र के एकीकरण के बाद, 18 वर्ष की आयु प्राप्त करते ही युवाओं को एक संदेश भेजा जाएगा और आवश्यक औपचारिकताएं पूरी करने के बाद उसका वोटर कार्ड उनके घर भेजा जाएगा. इसी प्रकार, 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने वाले व्यक्ति को राज्य सरकार की ओर से संदेश मिलेगा कि वह वृद्धावस्था भत्ते के लिए पात्र हो गया है और कुछ जानकारी देने के बाद वह घर बैठे पेंशन प्राप्त करना शुरू कर देंगे. मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा विभिन्न विभागों की योजनाओं के एकीकरण करने के अभियान के तहत, उन सभी परिवारों के राशन कार्ड तैयार किए जाएंगे, जिनके पास वर्तमान में कोई राशन कार्ड नहीं हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज