लाइव टीवी

चंडीगढ़ में PG का धंधा चौपट, बेघर हुई लड़कियां कहां जाएं?
Chandigarh-City News in Hindi

News18 Haryana
Updated: March 4, 2020, 2:58 PM IST
चंडीगढ़ में PG का धंधा चौपट, बेघर हुई लड़कियां कहां जाएं?
चंडीगढ़ में पीजी में रहने वाली लड़कियां हुई परेशान

चंडीगढ़ (Chandigarh) में दूसरे राज्यों से कई युवा रोजगार और पढ़ाई के लिए पहुंचते हैं. महंगे किराए की वजह से यहां ज्यादातर लोग पीजी यानी कि पेइंग गेस्ट (Paying Guest) में रहना पसंद करते हैं. लेकिन मौजूदा वक्त में पीजी का हाल बहुत बुरा है.

  • Share this:
(कुसुम रावत)

चंडीगढ़. सुबह का वक्त था ऑफिस पहुंची ही थी कि अचानक से फोन बजता है. फोन नवजोत का था जो मेरे साथ काम करती हैं और छुट्टी लेकर घर गई थी. रुआंसी सी आवाज़, कुसुम चंडीगढ़ (Chandigarh) में क्या हुआ? जिन लड़कियों की आग में जलकर मौत (Death) हुई है, वो डरावना है ही लेकिन इसके बाद जो हो रहा है वो मेरी समझ में नहीं आ रहा मैं क्या करूं. बार-बार पीजी से कॉल आ रही है. अपना सामान उठाओ और घर से निकलो. मुझे घर से सुबह ही निकलना पड़ा रात को चंडीगढ़ पहुंचुगी लेकिन रहूंगी कहा. मैं खुद पीजी में रहती हूं और थोड़ी देर पहले ही पीजी की लैंडलॉर्ड से इस बारे में बातचीत हुई कि बाहर की कोई लड़की पीजी में नहीं आएगी.

नवजोत रुआंसी सी आवाज में बोली यार अब मैं क्या करुं. अगले दिन ऑफिस, घर की थकान, रहने के लिए छत नहीं. जैसे-तैसे उसके रहने का बंदोबस्त किया. लेकिन ये कहानी सिर्फ नजवोज की नहीं है. क्योंकि इसके बाद फोन की कई घंटियां बजी, एक के बाद एक लड़कियों की कॉल आनी शुरू हो गई जिसके बाद सेक्टर-28 की लड़कियों ने हमसे संपर्क किया और इस दौरान उन्हें क्या कुछ झेलना पड़ा उन्होंने उसे न्यूज 18 की टीम के साथ शेयर किया.




सिटी ब्यूटीफुल में ऐसे हैं पीजी के हालात



बता दें कि चंडीगढ़ में दूसरे राज्यों से कई युवा रोजगार और पढ़ाई के लिए पहुंचते हैं. महंगे किराए की वजह से यहां ज्यादातर लोग पीजी यानी कि पेइंग गेस्ट में रहना पसंद करते हैं. लेकिन मौजूदा वक्त में पीजी का हाल बहुत बुरा है, एक रूम में तीन से चार बेड, जिसमें आपको सिर्फ थोड़ी सी ही चलने की जगह मिलेगी. हवा का नाम नहीं,जिनमें दो बेड होंगे उनके कमरे ऐसे होंगे जैसे शुरू होते ही कमरा खत्म समझो.

पैसा तो लिया जाता है, पर नहीं दी जाती सुविधाएं

गैस पूरे प्रॉसेस से लेंगे लेकिन उसे काला बाजारी का नाम देकर बच्चों से पूरा पैसा लिया जाता है, तो कहीं साफ पीने के पानी की व्यवस्था ही नहीं है ऐसी कई परेशानियां चंडीगढ़ सेक्टर-32 में तीन लड़कियों की जिस तरह से जलकर मौत हुई उसके बाद चंडीगढ़ प्रशासन जागा और छापेमारी का दौर शुरू हुआ तो सामने आया कि ऐसे कई पीजी है जो पीजी के मानकों पर खरा नहीं उतरते.

लड़कियों ने बताई आपबीती


सुविधाएं ने देकर पैसे कमाने का धंधा बना पीजी

आलम ये हुआ कि चंडीगढ़ में जिन पीजी वालों ने कल तक इसे अपना पैसे कमाने का धंधा बनाया हुआ था. आज वो बच्चियों को किसी भी वक्त पीजी से निकालने में जुट गए हैं और इस सबके बीच पीस रहे हैं. वो बच्चे जो अपने घरों से बाहर निकलकर अपने सपनों को पूरा करने के लिए निकले हैं. लेकिन रात कहां गुजारनी पड़ेगी ये वो खुद नहीं जानतीं. कुछ तो ऐसी हैं, जिन्हें वापस घर का रुख करना पड़ा. जिन्होंने हार नहीं मानी वो इन लड़कियों की तरह सिटी ब्यूटीफुल कहे जाने वाले चंडीगढ़ में संघर्ष कर रहीं हैं.

ये भी पढ़ें- CRPF जवान 6 किलो 280 ग्राम अफीम के साथ गिरफ्तार, आई-कार्ड दिखाकर पुलिस को देता था चकमा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 4, 2020, 2:57 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading