लाइव टीवी

पराली: छोटे और सीमांत किसानों को हरियाणा दे सकता है 100 रु. प्रति क्विंटल की सहायता राशि

News18 Haryana
Updated: November 9, 2019, 3:29 AM IST
पराली: छोटे और सीमांत किसानों को हरियाणा दे सकता है 100 रु. प्रति क्विंटल की सहायता राशि
बुधवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने आदेश दिया है कि 100 रुपए प्रति क्विंटल पराली की दर से 7 दिनों में उन छोटे और सीमांत किसानों को मदद मुहैया कराएं, जिन्होंने पराली नहीं जलाई है. पराली के निस्तारण के लिए यह भुगतान तीन राज्यों पंजाब, हरियाणा और यूपी के किसानों को किया जाएगा.

बुधवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने आदेश दिया है कि 100 रुपए प्रति क्विंटल पराली की दर से 7 दिनों में उन छोटे और सीमांत किसानों को मदद मुहैया कराएं, जिन्होंने पराली नहीं जलाई है. पराली के निस्तारण के लिए यह भुगतान तीन राज्यों पंजाब, हरियाणा और यूपी के किसानों को किया जाएगा.

  • Share this:
चंडीगढ़. हरियाणा सरकार (Haryana Government) अपने खेतों में पराली (Stubble) नहीं जलाने वाले छोटे एवं सीमांत किसानों को शनिवार से 100 रुपये प्रति क्विंटल की दर से सहायता राशि प्रदान कर सकती है. उत्पाद एवं कर मामलों और कृषि एवं किसान कल्याण मामलों के अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव कौशल ने शुक्रवार को बताया कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) इस संबंध में दिन में फैसला ले सकते हैं. उन्होंने कहा कि संबंधित विभाग की बैठक के बाद प्रस्ताव को मंजूरी के लिए मुख्यमंत्री को भेजा गया है.

5 एकड़ से कम है 20 लाख किसानों की जोत का आकार
अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव कौशल से जब यह पूछा गया कि कितने किसानों को इससे लाभ होगा और हरियाणा सरकार की ओर से कितनी राशि खर्च की जाएगी? उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की मंजूरी के बाद इसकी जानकारी दी जाएगी. कृषि, राजस्व एवं वित्त विभाग के अधिकारियों ने इस मामले पर चर्चा करने के लिए बैठक की थी. अनुमान है कि राज्य में 20 लाख ऐसे किसान हैं जिनकी जोत का आकार पांच एकड़ से कम है.

उच्चतम न्यायालय ने 100 रुपए प्रति क्विंटल की दर से मदद देने को कहा था

सरकार के पास किसानों की जमीन और बैंक खातों की जानकारी है. उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय ने प्रदूषण नियंत्रित नहीं कर पाने पर बुधवार को एजेंसियों को फटकार लगाई थी और पंजाब, हरियाणा एवं उत्तर प्रदेश सरकार को निर्देश दिया था कि वे उन छोटे और सीमांत किसानों को 100 रुपये प्रति क्विंटल पराली की दर से सात दिनों में मदद मुहैया कराए जिन्होंने पराली नहीं जलाई है.

किसान बिना जलाए ही पराली मैनेजमेंट कर लेंगे: कृषि अर्थशास्त्री देविंदर शर्मा
न्यूज18 हिंदी से बातचीत में कृषि अर्थशास्त्री देविंदर शर्मा ने कहा कि प्रति क्विंटल पराली 100 रुपए की सहायता से किसान बिना जलाए ही पराली मैनेजमेंट कर लेंगे. यदि मदद लेने के बाद भी कोई किसान पराली जलाता है तो उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए. उन्होंने कहा कि यह दुखद है कि सरकार पराली मैनेजमेंट के लिए मशीन पर 60 हजार रुपए की सब्सिडी देने को तैयार थी, लेकिन किसानों को नगद पैसा नहीं दे रही थी, लेकिन अब उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद किसानों का रास्ता आसान हो जाएगा.
Loading...

ये भी पढ़ें -

मरयम नवाज बोलीं, इलाज कराने के लिए लंदन जाएंगे नवाज शरीफ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 9, 2019, 3:29 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...