Assembly Banner 2021

शराब-तंबाकू खाने वालों को कोरोना नेगेटिव होने में लगता है ज्यादा समय, PGI की स्टडी में दावा

देश में वैक्सीनेशन का दूसरा चरण एक मार्च से शुरू होगा (सांकेतिक तस्वीर)

देश में वैक्सीनेशन का दूसरा चरण एक मार्च से शुरू होगा (सांकेतिक तस्वीर)

Study on Corona Virus by PGI Chandigarh: विशेषज्ञों का कहना है कि अब भी कोरोना से मरने वालों में हाइपरटेंशन, किडनी, फेफड़ा, हृदय व कैंसर रोग संबंधी मरीजों की तादाद ज्यादा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 27, 2021, 12:40 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. कोरोना वायरस (Coronavirus) को हल्के में ले रहे लोगों के लिए खबर है. साथ ही शराब औऱ तंबाकू का सेवन करने वालों को भी सावधानी बरतने की जरूरत है. पीजीआई चंडीगढ़ (PGI Chandigarh) की स्टडी में चौंकाने और डराने वाला खुलासा हुआ है. स्टडी के अनुसार, ऐसे लोग जो, शराब और तंबाकू का सेवन करते हैं, उन्हें यदि कोरोना हो जाये तो उन्हें कोरोना से ठीक और नेगेटिव (Negative) होने में ज्यादा समय लगता है.

पीजीआई चंडीगढ़ के डॉक्टर्स की स्टडी रिपोर्ट में यह दावा किया गया है. पीजीआई के साइकोल़ॉजिकल विभाग ने यह स्टडी की है. डॉक्चरों की टीम ने 100 से करीब मरीजों पर यह शोध किया है. स्टडी में सामने आया है कि पीजीआई में जो कोरोना के मरीज दाखिल थे, उनमें जो शराब या तंबाकू का सेवन करने वाले थे, उनकी रिपोर्ट नेगेटिव होने में ज्यादा समय लेती थीं. जो लोग इन दोनों के आदी नहीं थे, वह जल्दी ठीक हुए और उनकी नेगेटिव रिपोर्ट 15 दिन में आ गई. दूसरे लोगों को 25 से 30 दिन में नेगेटिव होने में लगे हैं. डॉक्टर संदीप ग्रोवर के मुताबिक, ऐसे लोगो का इम्यून कमजोर हो रहा है. उनकी टीम ने यह स्टडी की है.

लगातार बढ़ रहे मरीज


पीजीआई स्थित कोविड अस्पताल में 10 दिन पहले तक कोरोना के 30 से 32 मरीज भर्ती थे, लेकिन अब संख्या 60 के करीब हो गई है. पॉजिटिव केस में दोगुनी रफ्तार से हो रही वृद्धि चिंताजनक है. जनवरी से अब तक चंडीगढ़ शहर में कोरोना के 2367 मरीज मिल चुके हैं, जबकि उम्मीद जताई जा रही थी कि संक्रमण पर काबू पाया जा रहा है. 31 दिसंबर को पॉजिटिव मरीजों की संख्या 19223 थी जो महज 56 दिनों में बढ़कर 21590 पर पहुंच गई है.
इस साल जनवरी से अब तक कोरोना से 26 लोग अपनी जान गवां चुके हैं. मरने वालों में सबसे ज्यादा 60 साल के ऊपर के और गंभीर बीमारियों से ग्रस्त मरीज थे. विशेषज्ञों का कहना है कि अब भी कोरोना से मरने वालों में हाइपरटेंशन, किडनी, फेफड़ा, हृदय व कैंसर रोग संबंधी मरीजों की तादाद ज्यादा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज