सतलुज नदी के बांध टूटने से 60 से ज्यादा गांव पानी में डूबे

News18 Haryana
Updated: August 27, 2019, 11:30 AM IST
सतलुज नदी के बांध टूटने से 60 से ज्यादा गांव पानी में डूबे
बाढ़ से कई गांव पानी में डूबे (प्रतीकात्मक फोटो)

इससे पहले 21 अगस्त को जालंधर में बांध टूटने से लोहियां खास के 20 से ज्‍यादा गांव बाढ़ की चपेट में आ गए थे.

  • Share this:
सतलुज नदी में पानी के तेज बहाव आने के बाद जगह-जगह से बांध टूट गए हैं. इसके चलते जालंधर के कई गांव पानी में डूब गए हैं. कहा जा रहा है कि 60 से ज्यादा गांव पानी में डूबे हुए हैं. जिन लोगों के घर पानी में डूब गए या बह गए, उन लोगों ने राहत कैंपों में शरण ली है. जालंधर के लोहिया खास के सरकारी स्कूल में बने एक राहत कैंप में 500 से ज्यादा लोगों को रखा गया है.

इलके अलावा ऐसे कई और कैंप आसपास के इलाके में भी बनाए गए हैं
जानकारी के मुताबिक, इलके अलावा ऐसे कई और कैंप आसपास के इलाके में भी बनाए गए हैं. कैंप में रहने वाले लोगों को भले ही समाजसेवी संस्थाओं से खाना और कुछ दवाइयां दी जा रही है लेकिन अपने पीछे सब कुछ बर्बाद होने के चलते बेहद परेशान हैं. इन लोगों को आगे का रास्ता नजर नहीं आ रहा है.

21 अगस्त को जालंधर में बांध टूटने से 20 से ज्‍यादा गांव बाढ़ की चपेट में आ गए थे

बता दें कि इससे पहले 21 अगस्त को जालंधर में बांध टूटने से लोहियां खास के 20 से ज्‍यादा गांव बाढ़ की चपेट में आ गए थे. बांध का पानी ओवरफ्लो होने से गांवों में घुस गया था. जिससे खेतों के साथ-साथ घरों में पानी भर गया था. इस दौरान  गांववासियों का कहना था कि बाढ़ से बहुत मुसीबत हो रही है लेकिन प्रशासन की ओर से मदद के कोई इंतजाम नहीं किए गए हैं.

ये भी पढ़ें-  

नक्सल समस्या से निपटने के लिए नीतीश ने केंद्र से की यह मांग
Loading...

क्या मुलायम परिवार का इतिहास दोहराएगा लालू का कुनबा?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 11:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...