लाइव टीवी

नहर मुद्दे पर स्थिति को संभालने के लिए सेना की तैनाती हो: अमरिंदर
Chandigarh-City News in Hindi

आईएएनएस
Updated: February 22, 2017, 3:18 PM IST
नहर मुद्दे पर स्थिति को संभालने के लिए सेना की तैनाती हो: अमरिंदर
हरियाणा के इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलोद) की ओर से 23 फरवरी से पंजाब-हरियाणा सीमा पर विवादित पंजाब सतलज यमुना लिंक (एसवाईएल) नहर की खुदाई पर अड़ने के बाद पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष अमरिंदर सिंह ने सेना की तैनाती की मांग की है.

हरियाणा के इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलोद) की ओर से 23 फरवरी से पंजाब-हरियाणा सीमा पर विवादित पंजाब सतलज यमुना लिंक (एसवाईएल) नहर की खुदाई पर अड़ने के बाद पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष अमरिंदर सिंह ने सेना की तैनाती की मांग की है.

  • Share this:
हरियाणा के इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलोद) की ओर से 23 फरवरी से पंजाब-हरियाणा सीमा पर विवादित पंजाब सतलज यमुना लिंक (एसवाईएल) नहर की खुदाई पर अड़ने के बाद पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष अमरिंदर सिंह ने सेना की तैनाती की मांग की है.

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि हालात के बेकाबू होने से पहले इनेलोद और उसके नेताओं को काबू में करना जरूरी है. उन्होंने हालात पर नियंत्रण के लिए इनेलोद के नेता अभय चौटाला की ऐहतियातन गिरफ्तारी और पार्टी के प्रमुख ओम प्रकाश चौटाला की पैरोल को रद्द करने की मांग की.

अमरिंदर ने कहा, "हालात खतरनाक स्थिति में पहुंच गए हैं. मुद्दे पर अभय चौटाला का अड़ियल रुख तथा सेना के बुलाए जाने के बाद भी सतलज यमुना लिंक नहर की खुदाई करने की उनकी धमकी, उनकी ऐहतियातन गिरफ्तारी के लिए पर्याप्त आधार है."

इनेलोद नेतृत्व की ओर से कथित तौर पर कानून को खुली चुनौती देने और सतलज यमुना नहर मुद्दे पर पंजाब में आतंकवाद के दोबारा सिर उठाने के संकेत की खुफिया रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए अमरिंदर ने चेतावनी दी कि अगर इनेलोद कार्यकर्ता नहर की खुदाई करने के लिए पंजाब का रुख करते हैं, तो हालात बेकाबू हो सकते हैं.



उन्होंने कहा कि वह कई बार कह चुके हैं कि एसवाईएल मुद्दे में पंजाब में आतंकवाद के दोबारा सिर उठाने की क्षमता है और खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट ने आशंका को खारिज नहीं किया है.

चौटाला ने मंगलवार को कहा कि अगर अधिकारी उन्हें रोकने के लिए सेना भी बुला लें, तब भी इनेलोद नहर खोदने के लिए आगे बढ़ेगा.

केंद्र और हरियाणा सरकार पर हरियाणा व पंजाब में इनेलोद की ओर से तनाव उत्पन्न करने का मूकदर्शक बनने का आरोप लगाते हुए अमरिंदर ने कहा, "इनेलोद के आगे बढ़ने से पहले केंद्र सरकार को तत्काल व्यापक पैमाने पर सेना की तैनाती का कदम उठाना चाहिए."

उन्होंने कहा, "मुद्दे पर अभय चौटाला के उद्दंड तथा उकसावे वाले बयान का पंजाब की शांति पर दीर्घकालिक प्रभाव पड़ सकता है. पंजाब एक तरह से बारूद पर बैठा हुआ है. खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक, आतंकवादियों के कई स्लीपिंग सेल फिर से अपना सिर उठाने के लिए तैयार हो रहे हैं. आतंकवादी संगठन हालात का फायदा उठा सकते हैं."

हरियाणा विधानसभा में विपक्ष के नेता चौटाला ने आरोप लगाया है कि पंजाब के साथ पानी के बंटवारे के मुद्दे पर सर्वोच्च न्यायालय के हरियाणा के पक्ष में फैसले के बावजूद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार कुछ भी नहीं कर रही है.

सर्वोच्च न्यायालय ने बीते साल नवंबर में प्रेसिडेंशियल रेफरेंस के आधार पर पंजाब विधानसभा की ओर से पंजाब टर्मिनेशन ऑफ वाटर एग्रीमेंट बिल, 2004 को पारित किए जाने को 'असंवैधानिक' करार दिया था.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 22, 2017, 3:18 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर