Home /News /haryana /

चंडीगढ़: नेशनल लेवल तक बॉक्सिंग खेली, अब सेक्टर-22 में पार्किंग की पर्चियां काटती हैं रितु

चंडीगढ़: नेशनल लेवल तक बॉक्सिंग खेली, अब सेक्टर-22 में पार्किंग की पर्चियां काटती हैं रितु

रितु अपने परिवार समेत धनास के स्मॉल फ्लैट मैं रहती है. ऋतु के पिता बीमार हैं.

रितु अपने परिवार समेत धनास के स्मॉल फ्लैट मैं रहती है. ऋतु के पिता बीमार हैं.

Boxer Ritu Story: पिता की तबीयत खराब होने के बाद घर की माली हालत बिगड़ी तो नेशनल लेवल बॉक्सर रितु को छोड़ने पड़ी पढ़ाई. घर का खर्चा चलाने के लिए पार्किंग स्लॉट पर करना पड़ रहा है काम.

    चमन पलानिया

    चंडीगढ़. पूरे देश की निगाहें टोक्यो ओलंपिक पर हैं. क्योंकि ओलंपिक में हमारे देश के कई युवा खेलों में नाम रोशन कर रहे हैं. चाहे मीराबाई चानू या महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी. पूरा देश गोल्ड मेडल की आस लगा कर बैठा है. इन खेलों के समय तो सरकार मेडल लाने वाले खिलाड़ियों की खूब पूछ-परख करती है, लेकिन बाद में लोग इन्हें भूल जाते हैं. आर्थिक हालातों के कारण कई खिलाड़ियों को अपना खेल छोड़ना पड़ता और उन्हें मुश्किलों का सामना करना पड़ता है.

    ऐसी ही एक कहानी चंडीगढ़ के बॉक्सर की है. जो कभी नेशनल लेवल की प्लेयर रह चुकी हैं, लेकिन आज उसके आर्थिक हालात इतने बिगड़े उसे घर संभालने की नौबत आई तो वह एक पार्किंग स्लॉट में काम कर रही है. रितु अपने परिवार समेत धनास के स्मॉल फ्लैट मैं रहती है. ऋतु के पिता बीमार हैं, जिन पर महीने की दवाई का खर्चा 10000 रुपए के करीब आता है. घर में कमाने वाले केवल पिता थे, जब वह बीमार पड़ गए तो घर का खर्चा नहीं चलता था. ऐसे में रितु ने भी पढ़ाई छोड़ कर काम करने की ठानी.

    पार्किंग की पर्चियां काटती हैं रितु
    रितु इन दिनों सेक्टर 22 की पार्किंग स्लॉट में आपको पर्चियां काटती हुई नजर आ जाएंगी. रितु बॉक्सिंग में नेशनल लेवल की चैंपियन रह चुकी हैं और जब तक वह बॉक्सिंग खेली तब तक उन्होंने खूब मेडल भी जीते. रितु 12वीं पास है, लेकिन पिता की तबीयत अचानक खराब होने के कारण घर की माली हालत देख वह पढ़ाई जारी नहीं रख सकीं. बड़े भाई रंजीत ने भी घर के हालात को देखते हुए पढ़ाई बीच में छोड़ दी.

    रितु बताती हैं कि घर के हालात खराब थे और ऐसे में खर्चा चलाने के लिए उन्हें अब पार्किंग स्लॉट पर काम करना पड़ रहा है. वह चाहती हैं कि अपनी पढ़ाई जारी रखें और अपने पैशन बॉक्सिंग को भी जारी रख सकें. उनका सपना है कि वह आर्मी में जाए. इसको लेकर वह लगातार आर्मी के एग्जाम भी दे रही हैं. उनका कहना था कि अगर उनको मौका मिलता तो वह देश का नाम बॉक्सिंग में रोशन करते हैं.

    Tags: Boxer, Chandigarh news, Tokyo olympic 2020

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर