हरियाणा में मौसम: पहाड़ों पर हुई बर्फबारी से मैदानों में उतरी ठंड

हिमाचल प्रदेश के कई जिलों में हुई बर्फबारी
हिमाचल प्रदेश के कई जिलों में हुई बर्फबारी

Weather in Haryana: पानीपत में ठंड का 11 साल का रिकॉर्ड टूट गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 3, 2020, 2:56 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. पहाड़ी इलाकों में हुई बर्फबारी के चलते हरियाणा (Haryana) में इस बार सर्दी करीब 25 दिन एडवांस (Advance) आई है. सोमवार को हिसार (Hisar) देश के मैदानी इलाकों में सबसे ठंडा रहा. यहां रात का तापमान 8.9 डिग्री पर आ गया, जो सामान्य से 7 डिग्री कम है. यह शिमला से 1.3 डिग्री, धर्मशाला से 2.3 डिग्री अधिक ठंडा रहा. शिमला में पारा 10.2 डिग्री, धर्मशाला में 11.2 डिग्री रिकॉर्ड किया गया.

पानपीत में ठंड का 11 साल का रिकॉर्ड टूटा

वहीं, पानीपत में ठंड का 11 साल का रिकॉर्ड टूट गया है. यहां 4 दिन में तापमान 4 डिग्री गिरकर 11 डिग्री पर आ गया. इससे पहले 2009 में न्यूनतम तापमान नवंबर माह में सबसे कम 11.2 डिग्री दर्ज किया गया था. मौसम विभाग के चंडीगढ़ सेंटर के निदेशक डॉ. सुरेंद्र पाल का कहना है कि ऐसा मौसम 1980 के दशक में होता था. उस समय की तरह इस बार नवंबर के पहले सप्ताह में ही अच्छी ठंड होने लगी है.



रात का पारा हो सकता है 2-3 डिग्री तक कम
इसका प्रमुख कारण लॉकडाउन के दौरान प्रदूषण का स्तर कम होने से हवा का शुद्ध होना है. वहीं, पहाड़ों पर बर्फबारी होने से उत्तर-पश्चिम हवाएं ठंड को मैदानों की ओर खींच लाई हैं. मौसम विभाग के अनुसार, ठंडक और गहराएगी. 24 घंटे बाद रात का पारा 2-3 डिग्री तक कम हो सकता है

किसान इन बातों का रखें ख्याल

सरसों की बिजाई उन्नत किस्मों आरएच 725, आरएच 749, आरएच 30 , आर एच 406 आदि के प्रमाणित बीजों से जल्दी पूरी करे. बिजाई से पहले 2 ग्रामकारबेन्डाजिम प्रति किलोग्राम बीज के हिसाब से अवश्य उपचारित करें. देसी चने की बिजाई के लिए खेत को अच्छी प्रकार से तैयार करे तथा उन्नत किस्मों के साथ बिजाई शुरू करे. देसी चने की उन्नत किस्मों बारानी व सिंचित क्षेत्रों के लिए एचसी 1 तथा सिंचित क्षेत्रों के लिए एचसी 3 (मोटे दाने वाली किस्म) व एचसी 5 किस्मों का प्रयोग करे. बिजाई से पहले बीज का राइजोबियम के टीके से उपचार करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज