• Home
  • »
  • News
  • »
  • haryana
  • »
  • Haryana Weather: हरियाणा में 22 सिंतबर तक मौसम रहेगा परिवर्तनशील, बीच-बीच में हो सकती है बारिश

Haryana Weather: हरियाणा में 22 सिंतबर तक मौसम रहेगा परिवर्तनशील, बीच-बीच में हो सकती है बारिश

देश के कई हिस्सों में भारी बारिश की आशंका (AP Photo/Channi Anand)

देश के कई हिस्सों में भारी बारिश की आशंका (AP Photo/Channi Anand)

Weather in Haryana: हरियाणा में 13 जून को दस्तक देने के बाद अब तक मानसून सीजन में करीब 500 मिलीमीटर बरसात हो चुकी है. वर्ष 2010 के बाद 11 साल में यह दूसरा सबसे बड़ा सुकून भरा सितंबर रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    चंडीगढ़. हरियाणा में मानसून सीजन (Monsoon Season) यानी 1 जून से 18 सितंबर तक 514.6 एमएम बरसात हो चुकी है, जो 22 फीसदी अधिक है, इस अवधि में सामान्य बरसात 420 एमएम बरसात होती है. यह पिछले 10 सालों में दूसरी अच्छी बरसात है. मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि सितंबर में अब तक सामान्य से दोगुनी बरसात हुई है. बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है. इसके प्रभाव से 20 सितंबर से फिर अच्छी बरसात की संभावना है. कहीं-कहीं ज्यादा बारिश (Rain) हो सकती है.

    बता दें कि हरियाणा में 22 सितंबर तक मौसम आमतौर पर परिवर्तनशील रहने की संभावना है. इस दौरान बीच-बीच में बादल व कहीं-कहीं गरज चमक के साथ बारिश होने की संभावना है. मौसम विज्ञानियों के अनुसार बंगाल की खाड़ी की तरफ से प्रदेश में लगातार नमी भरी हवा हरियाणा की तरफ आ रही हैं जो राजस्थान व पंजाब के आसपास साइक्लोनिक सर्कुलेशन बना रही हैं. इस कारण से प्रदेश में दक्षिण पश्चिम मानसून जाते जाते भी भी बारिश कर रहा है.

    अधिक बारिश से फसलों को नुकसान

    प्रदेश में 21 फीसद से अधिक ओवरआल बारिश अभी तक दर्ज की जा चुकी है. तीन चार जिलों को छोड़ दिया जाए तो हर जिले में सरप्लस बारिश हुई है. हालांकि अधिक बारिश किसानों के लिए दिक्कत भी खड़ी कर रही है. कपास और धान जैसी फसल में भी किसानों को हल्की नुकसान हुआ है. वहीं ग्वार में भी रोग लगते दिख रहे हैं.

    मानसून सीजन में कितनी बारिश दर्ज की गई

    पिछली बार दक्षिण पश्चिम मानसून की वापसी 26 सितंबर को हुई थी. मानसून वापसी के बाद ही पता चल सकेगा कि इस मानसून सीजन में कितनी बारिश दर्ज की गई. कहां कितनी बारिश अधिक रही. अगेती बिजाई करने वाले किसानों को धान में नुकसान होता दिख रहा है. वहीं पछेती बिजाई में बारिश काफी फायदेमंद है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज