लाइव टीवी

EXCLUSIVE: हरियाणा विधानसभा चुनाव में मंत्रियों, सांसदों के बेटे-बेटियों को नहीं मिलेगा टिकट!

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: September 24, 2019, 4:23 AM IST
EXCLUSIVE: हरियाणा विधानसभा चुनाव में मंत्रियों, सांसदों के बेटे-बेटियों को नहीं मिलेगा टिकट!
हरियाणा की सत्ता हासिल करने की सियासी जंग शुरू हो चुकी है (प्रतीकात्मक फोटो)

Haryana Assembly Election 2019: केंद्रीय मंत्री और कुछ सांसद अपने बेटे-बेटियों को चुनाव लड़ाना चाहते हैं. हालांकि, चुनाव समिति की बैठक के बाद न्यूज18 हिंदी से विशेष बातचीत में बीजेपी के हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला (Subhash Barala ) ने कहा मेयर, जिला परिषदों के चेयरमैन और 75 साल से अधिक उम्र के नेताओं को भी नहीं मिलेगी टिकट!

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 24, 2019, 4:23 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. हरियाणा विधानसभा चुनाव (Haryana Assembly Election) 75 से अधिक सीटों को जीतने का टारगेट रखकर लड़ रही बीजेपी (BJP) में टिकट के लिए घमासान मचा हुआ है. हजारों की संख्या में बायोडाटा आए हैं, जिनमें से योग्य उम्मीदवारों का चयन करना मुश्किल हो रहा है. इस छोटे से प्रदेश में केंद्र में तीन मंत्री हैं. तीनों अपने बेटे-बेटियों के लिए टिकट चाहते हैं. लेकिन न्यूज18 हिंदी से विशेष बातचीत में बीजेपी (BJP) प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला (Subhash barala) ने कहा है कि बेटा-बेटी को टिकट नहीं मिलेगा. कर्मठ कार्यकर्ताओं को पार्टी चुनाव लड़ाएगी.

दिल्ली स्थिति हरियाणा भवन में न्यूज18 हिंदी से बातचीत में बराला ने कहा कि विधानसभा चुनाव (Assembly Election) को लेकर रविवार को चुनाव समिति की मैराथन बैठक हुई है. प्रत्याशियों के नाम केंद्रीय संसदीय बोर्ड फाइनल करेगा. जहां तक सांसदों (MP) , विधायकों (MLA)और मंत्रियों (Minister) के बेटा-बेटी को टिकट दिए जाने का सवाल है तो यह केंद्रीय नेतृत्व पहले ही साफ कर चुका है, कि किसी भी विधायक और सांसद के परिवार में टिकट नहीं दी जाएगी. इसी तरह जो नेता 75 साल से अधिक उम्र के हैं, उन्हें भी टिकट नहीं मिलेगा. यदि बहुत जरूरी न हो तो मेयर और जिला परिषदों के चेयरमैन को भी टिकट न देने का निर्णय है.

 Haryana Assembly Election 2019, बीजेपी प्रत्याशियों की लिस्ट, BJP Candidate list, Haryana Election 2019, Haryana politics, BJP, subhash barala, हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019, हरियाणा चुनाव 2019, हरियाणा की राजनीति, भाजपा, सुभाष बराला, Assembly election ticket, विधानसभा चुनाव की टिकट
न्यूज18 हिंदी से बातचीत करते हुए हरियाणा बीजेपी के अध्यक्ष सुभाष बराला


दूसरे दलों के बागी नेता के साथ भी समानता का व्यवहार

इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के 10 और बसपा (BSP) का एकमात्र विधायक बीजेपी में शामिल हो चुके हैं. ये सब अपने-अपने क्षेत्र से टिकट के दावेदार हैं. जब कोई नेता दूसरी पार्टी छोड़कर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गया है वो बीजेपी का कार्यकर्ता है. टिकट को लेकर जो विचार हम भाजपा के विधायकों के बारे में कर रहे हैं वैसा ही नए लोगों यानी दूसरी पार्टी छोड़कर हमारे यहां आए लोगों के बारे में भी करेंगे. उन्हें लेकर हमारा दृष्टिकोण नहीं बदलेगा. विधायकों के अलावा जो अन्य नेता भी दूसरी पार्टी छोड़कर बीजेपी में आए हैं और चुनाव लड़ने के इच्छुक हैं, उनके बारे में भी हम वही नजरिया रख रहे हैं जो हम अपने पुराने कार्यकर्ताओं को लेकर रखते हैं.

टिकट के लिए दावेदार ज्यादा होना सौभाग्य की बात

बराला ने कहा कि यह हमारा सौभाग्य है कि बीजेपी में टिकट के लिए दावेदार बहुत हो गए हैं. यह हर पार्टी को नसीब नहीं होता. जिस पार्टी में जनता की आस्था है, जो जनता के लिए काम कर रही है उसमें दूसरी पार्टियों के नेता भी आना चाहते हैं. यह हमारी ताकत है. इन्हीं की बदौलत हम 90 में से 75 से अधिक सीटें लाकर रिकॉर्ड बनाएंगे.ये भी पढ़ें:

जल्द आ सकती है प्रत्याशियों की सूची, BJP में टिकट के लिए जोड़तोड़ चरम पर!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हरियाणा की राजनीति से क्या है 24 साल पुराना कनेक्शन?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 23, 2019, 5:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर