खट्टर सरकार से खफा क्यों है खिलाड़ी? विनेश के बाद अब बजरंग ने किया कटघरे में खड़ा

हरियाणा के खिलाड़ी इनामी ऱाशि काटे जाने पर सरकार से खासे नाराज हैं. ट्विटर पर ट्वीट कर कई खिलाड़ी सरकार के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर कर चुके हैं.

News18 Haryana
Updated: July 5, 2019, 11:53 AM IST
खट्टर सरकार से खफा क्यों है खिलाड़ी? विनेश के बाद अब बजरंग ने किया कटघरे में खड़ा
खट्टर सरकार से हरियाणा के खिलाड़ी नाराज
News18 Haryana
Updated: July 5, 2019, 11:53 AM IST
हरियाणा खेल नीति एक बार फिर विवादों में है. महिला पहलवान विनेश फोगाट के बाद इस बार विश्व के नंबर वन रेसलरऔर एशियाड और कॉमनवेल्थ में गोल्ड मेडल जीतने वाले हरियाणा के पहलवान बजरंग पुनिया ने प्रदेश सरकार पर सवाल उठाए हैं. बजरंग ने हरियाणा सरकार पर झूठ बोलने के आरोप लगाए हैं. हरियाणा के खिलाड़ी इनामी ऱाशि काटे जाने पर सरकार से खासे नाराज हैं. ट्विटर पर ट्वीट कर कई खिलाड़ी सरकार के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर कर चुके हैं.

बता दें पिछले हफ्ते ही हरियाणा सरकार ने प्रदेश के खिलाड़ियों का सम्मान समारोह रद्द कर दिया था और इसके पीछे हवाला दिया था कि तीन हज़ार खिलाड़ियों को एक साथ एक दिन में सम्मानित नहीं किया जा सकता. साथ ही खेल मंत्री अनिल विज ने कहा था कि खिलाड़ियों की ईनामी राशि उनके खातों में 25 जून तक जमा कर दी जाएगी और मंगलवार को जब खिलाड़ियों के खाते में पैसा आया तो पुनिया और फोगाट के मुताबिक कट कर आया.

खेल नीति पर उठाए सवाल

दरअसल, हरियाणा की खेल नीति के मुताबिक, अगर किसी वित्तीय वर्ष में कोई खिलाड़ी एक ही खेल में दो या उससे ज्यादा पदक जीतता है तो उसे पहले पदक के लिए पूरी इनामी राशि दी जाएगी और उसके बाद के मेड्लस के लिए आधी रकम दी जाएगी. यही वजह है कि बजरंग और विनेश ने सरकार की खेल नीति पर सवाल उठाए हैं.

बजरंग ने कांग्रेस की खेल नीति को सराहा

इस मामले में रेसलर बजरंग पूनिया ने कहा था कि हम देश के लिए मेहनत करते हैं. हमें सम्मान की जरूरत नहीं लेकिन हमारा अपमान ना करें. बजरंग ने इस दौरान कांग्रेस सरकार की खेल नीति को सराहा और कहा कि जब हम बड़े लेवल पर मेडल जीतते है तब सरकार सुर्खियों में रहने के लिए इनामी राशि की घोषणा बढ़चढ़ कर कर देती है. मुझे एशियन गेम्स में जो राशि देनी थी वो 3 करोड़ थी लेकिन मुझे 75 लाख रुपये कम मिले.

मैं सरकार से दोबारा इस नीति को बदलने की विनती करता हूं. हर बार खेल सम्मान समारोह ना करना और उसे टालना सरकार की नाकामी है. अगर मेरा मान सम्मान पूरा नहीं हुआ तो मैं पूरी इनामी राशि लौटा दूंगा. बजरंग ने अनिल विज और मुख्यमंत्री से प्रश्न पूछते हुए कहा इस सरकार में कितने खिलाड़ियों नौकरी मिली?
Loading...

ये भी पढ़ें-लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद मुंह दिखाने लायक नहीं रही कांग्रेस: विज

इनेलो को लगा एक और झटका, सतीश नांदल BJP में हुए शामिल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 5, 2019, 11:43 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...