चंडीगढ़: संतान की चाह में महिला ने दी पड़ोसी के 7 साल के बच्चे की बली, शव झाड़ियों में फेंका
Chandigarh-City News in Hindi

चंडीगढ़: संतान की चाह में महिला ने दी पड़ोसी के 7 साल के बच्चे की बली, शव झाड़ियों में फेंका
पुलिस गिरफ्त में आरोपी महिला

Mohali Murder Case: आरोपी महिला की दो बेटियां हुई थीं, लेकिन दोनों की मौत हो गई थी. ऐसे में उसे किसी ने बच्‍चे की बली देने की सलाह दी थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 15, 2020, 11:50 AM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. मोहाली के घडुंआ पुलिस चौकी के गांव सकरुल्लापुर में एक बेऔलाद महिला ने अपनी कोख भरने के लिए पड़ोसी के 7 वर्षीय मासूम की बली दे डाली. हरप्रीत सिंह उर्फ हैप्पी की 10 जुलाई को संदिग्ध हालत में मौत हो गई थी. पुलिस को उसका शव घर के पास झाडिय़ों में मिला था. पुलिस ने इस मामले में जांच के बाद मृतक बच्चे की पड़ोसन अमनदीप कौर उर्फ शिवानी को कत्ल के आरोप में गिरफ्तार किया है. आरोपित अमनदीप कौर के खिलाफ पुलिस स्टेशन सदर खरड़ में कत्ल का मामला दर्ज कर लिया गया है. आरोपित को मंगलवार कोर्ट में पेश किया गया जहां से उसको 5 दिन के रिमांड पर भेजा गया है.

पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार, अमनदीप कौर उर्फ शिवानी (20) मृतक हरप्रीत सिंह उर्फ हैप्पी की पड़ोसन है. शादी के बाद उसकी दो बेटियां हुई थीं और दोनों की मौत हो गई थी. सूत्रों के अनुसार, किसी ने उसे बहकाया कि उसे औलाद का सुख तभी मिलेगा अगर वह किसी बच्चे की बली देगी. जिस कारण उसने अपने ही पड़ोसी के बच्चे का कत्ल कर दिया. हालांकि पुलिस इस बात को खुलकर नहीं बता रही है. जिस समय हरप्रीत की लाश झाडिय़ों में मिली उस समय उसके मुंह से झाग निकल रही थी और जब हरप्रीत का दो डॉक्टरों के बोर्ड ने पोस्टमार्टम किया गया तो उसे शरीर पर छोटे-छोटे निशान थे और इंजरी पाई गई थी.

पुलिस ने इस आधार पर पहले अज्ञात के खिलाफ कत्ल का मामला दर्ज किया था. पुलिस अंदाजा लगा रही है कि हो सकता है कि अमनदीप कौर ने हरप्रीत को अगवा करने के बाद मारा-पीटा हो और बाद में उसे सांप से कटवा दिया हो ताकि उसकी मौत प्राकृतिक लगे और किसी को उस पर शक भी ना हो. हालांकि इस मामले में पुलिस रिमांड के बाद खुलासा करेगी. लेकिन अमनदीप कौर ने गांव सकरुल्लापुर के सरपंच मनमिंदर सिंह के पास भी अपना जुर्म कबूल कर लिया है. पुलिस यह भी मान रही है कि इस मामले में अमनदीप कौर के साथ किसी और का भी हाथ हो सकता है.



क्या था मामला
मृतक हरप्रीत सिंह उर्फ हैप्पी गांव सकरुल्लापुर का रहने वाला था. 10 जुलाई को हरप्रीत अपने घर के बाहर बच्चों के साथ खेल रहा था. दोपहर को उसके साथ खेलने वाले सभी बच्चे अपने-अपने घर चले गए थे, लेकिन हरप्रीत सिंह घर नहीं पहुंचा था. उसके पिता गुरमेल सिंह ने उसे काफी ढूंढा लेकिन उसका कुछ पता नहीं चला. उन्होंने घडुंआ पुलिस चौकी में बेटे के लापता होने की सूचना भी दी थी. लेकिन देर रात पुलिस को कंट्रोल रुम पर सूचना मिली थी कि गांव सकरुल्लापुर के नजदीक औजार जगह पर झाडिय़ों में एक बच्चे का शव पड़ा है. घडुंआ पुलिस चौंकी इंचार्ज कैलाश बहादुर जब पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे तो उन्हें एक बच्चा जिसके मुंह से झाग निकल रही थी का शव औंधे मुंह जमीन पर पड़ा  मिला था.

पुलिस ने पोस्टमार्टम करवा परिजनों को सौंपा शव

पुलिस ने तुरंत लापता हुए हरप्रीत के पिता गुरमेल सिंह को बुलाकर शव की शिनाख्त करवाई थी तो पता चला था कि शव हरप्रीत का ही है. उस समय चौंकी इंचार्ज कैलाश बहादुर के बताने अनुसार हरप्रीत को सांप ने काटा हुआ बताया जा रहा था, लेकिन उसके परिजनों ने शक जताया था कि उसे सांप ने नहीं काटा उसका कत्ल हुआ है. उस समय पुलिस ने मामले में 174 की कार्रवाई कर शव परिजनों को सौंप दिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading