टीचर की छेड़खानी का किया विरोध तो छात्रा व भाई को स्कूल से निकाला, मां-पिता की नौकरी भी ली
Charkhi-Dadri News in Hindi

छात्रा को एक प्राइवेट स्कूल से इसलिए निकाल दिया गया क्योंकि उसने स्कूल के एक टीचर द्वारा छेड़छाड़ करने पर विरोध किया और पुलिस को शिकायत दे दी थी. यही नहीं उसके भाई को भी स्कूल से निकाल दिया. स्कूल में सफाई कर्मचारी उसके माता-पिता को भी निकाल दिया गया.

  • Share this:
मम्मी-मम्मी मैं स्कूल कब जा पाऊंगी और यह कहते-कहते 12वीं कक्षा की छात्रा अपनी मां से लिपट कर रोने लगी. छात्रा को एक प्राइवेट स्कूल से इसलिए निकाल दिया गया क्योंकि उसने स्कूल के एक टीचर द्वारा छेड़छाड़ करने पर विरोध किया और पुलिस को शिकायत दी थी. यह घटना दादरी जिले के बाढड़ा क्षेत्र के गांव ढिगावा मंडी की है. छेड़छाड़ का विरोध करने पर स्कूल डायरेक्टर ने स्कूल टीचर को स्कूल से बाहर निकालने की बजाए पीड़ित छात्रा और उसके भाई को स्कूल से निकाल दिया.

छात्रा और उसके भाई को निकालने के पीछे आरोप यह है कि उनकी वजह से स्कूल की बदनामी हो रही है. इसके साथ ही स्कूल में सफाई कर्मचारी की नौकरी करने वाले छात्रा के माता-पिता को भी निकाल दिया. इस मामले में भिवानी महिला थाना पुलिस ने आरोपी टीचर को गिरफ्तार कर लिया है, लेकिन स्कूल डायरेक्टर के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की.

स्कूल के डायरेक्टर पर भी लगाया आरोप



प्रताड़ना-Harassment
पीड़िता छात्रा की मां को भी स्कूल मैनेजमेंट ने काम से हटा दिया है.

पीड़ित छात्रा ने बताया कि स्कूल डायरेक्टर ने स्टाफ के साथ पहले उसकी बेइज्जती की और फिर स्कूल से निकाल दिया. ऐसे में अब अपनी बेटी और बेटे को पढ़ाने के लिए और न्याय के लिए पीड़िता के माता-पिता को दर-दर की ठोकर खानी पड़ रही है.

12वीं में पढ़ती थी छात्रा

यहां बता दें कि दादरी जिले के बाढड़ा क्षेत्र के एक गांव निवासी दंपति ढिगावा मंडी स्थित एक प्राइवेट स्कूल में सफाई कर्मचारी की नौकरी करते थे. उसका बेटी और बेटा भी उसी स्कूल में पढ़ते थे. स्कूल के टीचर रणजीत ने दंपति की 12वीं कक्षा में पढ़ने वाली बेटी के साथ छेड़छाड़ शुरू कर दी. धीरे-धीरे आरोपी टीचर छात्रा के साथ फोन पर भी अश्लील बातें करने लगा. जिसके चलते छात्रा ने इसकी जानकारी अपने माता-पिता को दी.

छात्रा ने बताया कि स्कूल उसका चरित्र हनन करने में जुटा

माता-पिता ने स्कूल डायरेक्टर को मामले की जानकारी दी तो उसने आरोपी टीचर के खिलाफ कोई कार्रवाई करने की बजाए छात्रा के चरित्र पर ही सवाल उठाने शुरू कर दिए. छात्रा ने इससे तंग आकर इसकी शिकायत पुलिस को दे दी. पुलिस ने मामले में आरोपी टीचर और स्कूल डायरेक्टर के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी.

डीसी के आदेश के बाद भी नहीं करने दिया प्रवेश

पीड़ित छात्रा के माता-पिता ने बताया कि स्कूल से निकालने के बाद उन्होंने डीसी भिवानी को गुहार लगाई थी. डीसी ने मौखिक आदेश के बाद बच्चों को स्कूल में भेजने की बात कही थी इसके बाद माता-पिता अपने बच्चों को लेकर स्कूल में गए तो उन्हें गेट के अंदर ही नहीं जाने दिया गया. पीड़ित छात्रा के माता-पिता ने इस घटना की वीडियो भी बना ली और उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया है. पीड़िता के माता-पिता ने अब सीएम विंडो, शिक्षा मंत्री और मानवाधिकार आयोग को पत्र लिखकर न्याय की गुहार लगाई है.

यह भी पढ़ें: Burning In Car: सोनीपत में चलती होंडा सिटी कार में लगी आग, ड्राइवर मरा

करनाल में युवक ने नहर में छलांग लगाकर दी जान, ससुराल वालों पर मारपीट का आरोप
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading