लाइव टीवी

एक और ‘दंगल गर्ल’ नीरज फौगाट ने बॉक्सिंग में जीता गोल्ड, मां ने कहा- बेटी ने दूध की लाज रख ली

Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: May 26, 2019, 2:07 PM IST
एक और ‘दंगल गर्ल’ नीरज फौगाट ने बॉक्सिंग में जीता गोल्ड, मां ने कहा- बेटी ने दूध की लाज रख ली
एक और ‘दंगल गर्ल’ नीरज फौगाट ने बॉक्सिंग में जीता गोल्ड, मां ने कहा- बेटी ने दूध की लाज रख ली

चरखी दादरी की नीरज फौगाट ने गुवाहटी में आयोजित इंडिया ओपन अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट के 57 किलोग्राम भार वर्ग में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहला स्वर्ण पदक जीता है.

  • Share this:
अपनी कड़ी मेहनत व गांव की मिट्टी पर प्रेक्टिस करते हुए भिवानी के पास चरखी दादरी की नीरज फौगाट ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाते हुए विशेष सफलता हांसिल की है. गांव झिंझर निवासी नीरज फौगाट ने गुवाहटी में आयोजित इंडिया ओपन अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट के 57 किलोग्राम भार वर्ग में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहला स्वर्ण पदक जीता है. नीरज ने अपना पदक बेटियों के नाम समर्पित करते हुए बेटी पढ़ाओ-बेटी खिलाओं का संदेश दिया है. नीरज फौगाट कई अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अनेक मेडल जीतकर बेटियों के लिए खेल में प्रेरणा बनी है. नीरज के घर लौटने पर परिजनों व ग्रामीणों ने मिठाइयां बांटकर खुशियां मनाई. परिजनों का कहना है कि ‘उनकी बेटी ने दूध की लाज रखी और मेहनत के बूते अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अनेक मेडल जीतकर साबित भी कर दिया’.

बता दें कि महिला मुक्केबाज नीरज फौगाट का मशहूर कुश्ती करने वाले फौगाट सिस्टर्स से कोई भी लेना-देना नहीं है. वह मुक्केबाजी की ‘फौगाट’ ब्रांड है जिन्हें आज से कुछ साल पहले शायद ही कोई जानता हो, लेकिन अपने दृढ संकल्प और आत्मविश्वास के साथ नीरज कम समय और उससे भी कम संसाधनों की बदौलत एक असीम मुकाम हासिल किया हुआ है. नीरज फौगाट ने इंडिया ओपन अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में वर्ल्ड चैंपियनशिप की कांस्य विजेता सोनिया चहल को हराकर फाइनल में प्रवेश किया. फाइनल में एशियन चैंपियनशिप की कांस्य पदक विजेता मनीषा मोन को 5-0 से हराकर स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया है. वहीं नीरज अब आगामी दिनों में होने वाली वर्ल्ड चैंपियनशिप की तैयारियों में जुट गई है.
वर्ष 2012 में बॉक्सिंग के प्रति नीरज फौगाट का रूख देखते हुए माता-पिता ने नीरज को अपने बड़े भाई हितेष के साथ दादरी में बुआ के घर भेज दिया और यहां आकर नीरज ने कड़ी मेहनत के साथ अभ्यास शुरू किया. नीरज फौगाट ने दो बार इंटर यूनिवर्सिटी में अपनी प्रतिभा दिखाते हुए चैंपियन बनी. बाद में नीरज ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और वर्ष 2013 से लगातार 2016 तक 51 किलोग्राम भारवर्ग में प्रथम स्थन हासिंल किया. 2016 में ही नीरज ने नेशनल चैंपियनशिप अपने नाम कर ली थी. दो वर्ष पूर्व नीरज ने 60 किलोग्राम भारवर्ग में सर्बिया के वर्बास में हुए छठे नेशन कप में स्वर्ण पदक जीता था. अब नीरज ने अपना वेट कम करते हुए ओपन अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट में 57 किलोग्राम भारवर्ग में सोना जीतने में सफल रही है.
अंतर्राष्ट्रीय बाक्सर व गोल्ड विजेता नीरज फौगाट कहती हैं कि उसने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहला गोल्ड जीता है. इस बार उसने वर्ल्ड व एशियन चैंपियनशिप खिलाड़ियों को हराकर मेडल पर कब्जा किया है. नीरज फौगाट का वर्ल्ड चैंपियनशिप में सोना जीतकर ओलंपिक में देश के लिए मेडल लाना ही सपना है.

यह भी पढ़ें-बॉक्सर विजेंद्र सिंह के बाद 'प्रो-बॉक्सिंग' के रिंग में उतरेंगे दिनेश सांगवान

 एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चरखी दादरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 26, 2019, 2:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर