फसल बेचने को लेकर किसान हो रहा परेशान, भूखे प्यासे घंटों करना पड़ रहा इंतजार

किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए चरखी दादरी की अनाजमंडी में लंबी लाइन में लग कर भूखे प्यासे घंटों इंतजार करना पड़ रहा है.

Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: April 9, 2019, 2:20 PM IST
फसल बेचने को लेकर किसान हो रहा परेशान, भूखे प्यासे घंटों करना पड़ रहा इंतजार
कतारों में लगे किसान
Pardeep Sahu
Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: April 9, 2019, 2:20 PM IST
सरकार की ओर से किसानों की फसल को लेकर किए जा रहे तमाम दावे धराशाही होते नजर आ रहे हैं. लोकसभा चुनाव मे जहां सरकार किसानों को राहत देने और उनकी आए को दोगुना करने की बात कर रही है. वही ऑनलाइन बिक्री किसानों के गले की फांस बनी हुई है.

किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए चरखी दादरी की अनाजमंडी में लंबी लाइन में लग कर भूखे प्यासे घंटों इंतजार करना पड़ रहा है. यहां तक कि फार्म व बारदाना समाप्त होने पर दिन-रात किसान खरीद के लिए मारामारी कर रहे हैं. मार्केट कमेटी कार्यालय में किसानों ने हंगामा करके मंडी अधिकारियों से भी उलझे.

किसानों को दोहरी मुसीबत

फसल बचने के लिए किसान के लिये दोहरी मुसीबत हो गई है, किसान करें तो क्या करें. एक तरफ जहां मौसम करवट ले रहा है, ऐसे वक्त में किसान अपने खेतों में पड़ी फसल को संभाले या फिर मंडी में फसले बेचने के लिये घंटों लाइन में लगे. किसानों का कहना है कि ऑनलाइन फॉर्म जमा कराने के लिए उन्हें घंटों इंतजार करना पड़ता है और लंबी लाइनों में लगना पड़ता है. यही नहीं एक किसान की अगर 25 क्विंटल से ऊपर सरसों है तो उसकी भी खरीद नहीं हो रही है.

क्यों हो रही है परेशानी

किसानों का आरोप है कि पटवारी और मार्केट कमेटी के अधिकारी उन्हें बार-बार चक्कर लगवा रहे हैं और सुबह से शाम तक वो ऑनलाइन करवाने के लिए कागजों में ही उलझ कर रह जाते हैं. वहीं दादरी मार्केट कमेटी के अधिकारी रामकिशन का कहना है कि ऑनलाइन वेबसाइट में से एक ही आईडी चल पाती है जिसके कारण मात्र कुछ फार्म ही ऑनलाइन हो पाते हैं.

ये भी पढ़ें-
Loading...

लोकसभा चुनाव 2019: दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा- झूठ और लूट की राजनीति कर रही है BJP

इस बार लोकसभा चुनाव में अपनी ही जीत का रिकॉर्ड मैं खुद तोड़ूंगा- रत्न लाल कटारिया

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडे
First published: April 9, 2019, 2:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...