हरियाणा: अस्पताल में बेड न मिलने से कोरोना संक्रमित महिला की मौत, परिजनों ने सिस्टम पर उठाए सवाल

कोरोना और सिस्टम ने ली महिला की जान (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना और सिस्टम ने ली महिला की जान (सांकेतिक तस्वीर)

Corona Death: मृतका के परिजनों ने बताया कि रातभर मरीज को लेकर घूमते रहे लेकिन कोई सुविधा नहीं मिली.

  • Share this:
चरखी दादरी. कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) महिला की जान बचाने के लिए परिजनों ने रातभर सरकारी से लेकर निजी अस्पतालों (Private Hospitals) के चक्कर काटे. बावजूद इसके बेड व इलाज नहीं मिलने से आखिरकार महिला ने दम तोड़ दिया. मृतका के परिजनों ने सिस्टम को लेकर सवाल उठाते हुए कई आरोप भी लगाए. वहीं स्वास्थ्य विभाग द्वारा इस संबंध में कुछ भी कहने से इंकार कर दिया.

बता दें कि झज्जर जिले के गांव माजरा निवासी कोरोना पॉजिटीव महिला की हालत बिगड़ने पर परिजन झज्जर, दादरी व रोहतक जिलों के निजी व सरकार अस्पतालों के चक्कर काटते रहे. लेकिन महिला को ना तो कोई बेड मिला और ना ही इलाज. बिगड़ी हालत में महिला को दादरी के सिविल अस्पताल में लाया गया तो उसे रोहतक पीजीआई रेफर कर दिया.

परिजन किसी तरह उसे रोहतक पीजीआई लेकर पहुंचे तो वहां भी बेड नहीं होने पर इनको बेरंग दादरी लौटा दिया. परिजन रातभर महिला को निजी अस्पतालों में लेकर पहुंचे, लेकिन कहीं कोई मदद नहीं मिल पाई. देर रात उसे दादरी के कोविड अस्पताल में भर्ती कर लिया गया. जहां कुछ देर बाद ही महिला ने दम तोड़ दिया.

साहब, सिस्टम ही खराब है
मृतका के परिजन सुरेंद्र सिंह ने बताया कि साहब, सिस्टम ही खराब है. अगर समय पर सुविधा मिल जाती तो शायद बच सकती थी. उन्होंने बताया कि रातभर मरीज को लेकर घूमते रहे लेकिन कोई सुविधा नहीं मिली. वो हाथ जोड़कर बोले, कि सरकार व स्वास्थ्य विभाग का सिस्टम ही खराब है. हम सरकार से मांग करते हैं कि सिस्टम सुधार लें ताकि किसी की जान ना जाए. वहीं इस संबंध में सीएमओ डा. सुदर्शन पंवार से बात की तो उन्होंने कैमरे के सामने कुछ भी बताने से इंकार कर दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज