• Home
  • »
  • News
  • »
  • haryana
  • »
  • COVID-19: संदेह के घेरे में कोरोना पॉजिटिव मरीज, कभी बीड़ी को हाथ तक नहीं लगाया, ग्रामीणों संग हुक्का गुड़गुड़ाया

COVID-19: संदेह के घेरे में कोरोना पॉजिटिव मरीज, कभी बीड़ी को हाथ तक नहीं लगाया, ग्रामीणों संग हुक्का गुड़गुड़ाया

कोरोना पॉजिटिव मरीज ने छिपाई मरकज जाने की बात

कोरोना पॉजिटिव मरीज ने छिपाई मरकज जाने की बात

क्रमित मरीज 20 मार्च को निजामुद्दीन मरकज (Markaz) से गांव लौटा था. उसने ग्रामीणों से मरकज जाने की बात छुपाकर रखी. पूछने पर भी उसने ग्रामीणों (Villagers) को मनघड़ंत कहानी सुनाई.

  • Share this:
चरखी दादरी. दादरी जिले के गांव हिंडोल में मिला कोरोना संक्रमित (Coronavirus) मरीज ने कभी बीड़ी तक हाथ नहीं लगाया था. निजामुद्दीन मरकज से लौटने के बाद उसने गांव में दो जगहों पर ग्रामीणों संग जमकर हुक्का भी गुड़ग़ुड़ाया. इतना ही नहीं कुछ लोगों के रुपयों की देनदारी भी बिना मांगे चुकता कर दी. बिना काम गांव के दो घरों में गया तथा चाय-पानी भी लिया. इसके अलावा कई गांवों में भी मिलने गया था. ऐसे कई सवाल (Question) हैं जो कोरोना संक्रमित मरीज को संदेह के घेरे में खड़ा करते हैं.

हांलाकि स्वास्थ्य विभाग को ऐसी जानकारी मिलने पर रातों-रात संपर्क आने वाले 72 लोगों की सूची तैयार करते हुए सक्रिनिंग शुरू कर दी है. वहीं स्वास्थ्य विभाग द्वारा 638 लोगों की सूची तैयार की गई थी, जिसमें 119 लोग मुस्लिम समाज के हैं. विभाग ने ऐसे लोगों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे जा रहे हैं. हालांकि दादरी जिला में सिर्फ एक केस पॉजिटीव है, उसकी दोबारा से जांच के लिए सैंपल भेजा गया है. अगर दूसरा सैंपल नेगेटिव मिलता है तो इस जिले के लिए राहत हो सकती है.

करोनो पॉजिटिव मरीज ने मरकज जाने की बात छुपाई

बता दें कि प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग द्वारा मरकज से लौटने वालों की सक्रिनिंग की जा रही थी. इसी दौरान सोमवार को जिले के गांव हिंडोल निवासी एक व्यक्ति कोरोना पॉजीटीव मिला. संक्रमित मरीज 20 मार्च को निजामुद्दीन मरकज से गांव लौटा था. उसने ग्रामीणों से मरकज जाने की बात छुपाकर रखी. पूछने पर भी उसने ग्रामीणों को मनघड़ंत कहानी सुनाई. उसने ग्रामीणों के विश्वास को फायदा उठाया तथा गांव में काफी लोगों से मुलाकात की.

गांव हिंडोल


सैंकड़ों लोगों के संपर्क में आया

प्रशासन को जब तक उसके मरकज से लौटने की जानकारी मिली, तब तक वह कई गांवों के सैकड़ों लोगों के संपर्क में आ चुका था. ग्रामीणों ने बताया कि संक्रमित मरीज पहले कभी बीड़ी पीते भी नहीं देखा. मगर वह दिल्ली से आने के बाद उसने तीन दिन तक ग्रामीणों के साथ हुक्का भी पीया था. एक ग्रामीण ने बताया कि उसकी कोरोना संक्रमित मरीज की तरफ कुछ रुपयों की लेनदारी थी, उसने दिल्ली से आने के तुरंत बाद बिना मांगे रुपये लौटा दिए. गांव के भी करीब 3 घरों में वह बिना किसी वजह से गया तथा काफी देर तक बातचीत की. एक घर में चाय-पानी भी पीया था. इसके अलावा संक्रमित मरीज गांव रानीला, कासनी, पिलाना सहित कई गांवों में भी गया था.

स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया, संपर्क करने वालों की बनाई सूची

गांव हिंडोल निवासी व्यक्ति कोरोना पॉजिटीव मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया और गांव में पहुंचकर गुप्तचर विभाग के माध्यम से जानकारी जुटाई. साथ ही जिन गांवों में गया, वहां लोगों से पूछताछ की. इस दौरान विभाग ने संपर्क में आने वाले 72 लोगों की सूची तैयार की है। साथ ही इनकी सक्रिनिंग करते हुए जांच के लिए सैंपल भेजे जा रहे हैं. इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग ने 638 लोगों की सूची तैयार की है जिसमें 119 लोग मुस्लिम समाज से हैं.

संपर्क में आने वालों सहित 108 के सैंपल जांच के लिए भेजे

सीएमओ डॉ. प्रदीप शर्मा ने बताया कि कोरोना पॉजिटीव के संपर्क में आने वालों की सूची तैयार कर ली है. विभाग द्वारा संपर्क में आने वाले 72 लोगों सहित 108 लोगों की जांच के लिए सैंपल भेजे गए हैं. इसके अलावा 59 लोगों को आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट किया गया है. कोरोना संक्रमण को लेकर विभाग पूरी मुस्तैदी से कार्य कर रहा है. जहां से भी सूचना मिलती है, तुरंत उन लोगों का मेडिकल चेकअप किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें-

Lockdown: 6 जिलों की पुलिस को चकमा देकर स्कूटी पर पानीपत पहुंची युवती, प्रेमी को साथ ले गई

ये भी पढ़ें- COVID 19: फरीदाबाद में डोर-टू-डोर थर्मल स्‍कैनिंग, शहर के 13 इलाकों में आवाजाही प्रतिबंधित

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज