हरियाणा: सीएसडी कैंटीन में लगी लोगों की भीड़, कोरोना नियमों की उड़ाई धज्जियां

कैंटीन में लगी भीड़

कैंटीन में लगी भीड़

Charkhi Dadri News: चरखी दादरी में कोरोना संक्रमण से लोगों को बचाने के दावे फेल. प्रशासन नहीं ले रहा सुध.

  • Share this:

चरखी दादरी. शहर की सीएसडी कैंटीन (Canteen) में बुधवार को दूसरे दिन भी पूर्व सैनिकों ने जमकर हंगामा किया. भीड़ व हंगामे को देखते हुए कैंटीन प्रबंधन की तरफ से लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया गया, लेकिन पूर्व सैनिकों ने न तो सोशल डिस्टेंस (Social Distance) का पालन किया और ना ही लॉकडाउन के नियमों का. सामान लेने पहुंचने वालों में अधिकांश पूर्व सैनिकों की उम्र 65 साल के लगभग या इससे अधिक थी. लॉकडाउन के दौरान 65 साल उम्र से अधिक के लोगों पर घर से बाहर बेवजह निकलने पर प्रतिबंध लगाया गया है.

कैंटीन में अधिकांश पूर्व सैनिक 65 वर्ष की आयु से अधिक दिखाई दिए. कैंटीन के गेट के बाहर सोशल डिस्टेंस का पालन भी नहीं हो रहा है और नियमों की धज्जियां उड़ रही ह. जिससे कि कोरोना संक्रमण को न्यौता दिया जा रहा है. हालांकि कैंटीन प्रबंधन ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए सैनिकों को घर से ही बुकिंग करने की बात कही हुई है, और सामान लेने के लिए ज्यादा भीड़ न हो इसके लिए रोजाना सौ लोगों को ही बुलाया जा रहा है.

बावजूद इसके उनके अलावा भी भीड़ इक्टठा हो रही है. जिला प्रशासन ने भीड़ लगने का मामला सामने आते ही एसडीएम सहित सिटी एसएचओ को भी मामले से अवगत कराया, पर प्रशासन द्वारा लोगों पर कोई कार्रवाई नहीं होने पर लोगों पर इसका कोई असर नहीं दिखाई दिया और दूसरे दिन और भी अधिक संख्या में लोग सामान लेने सीएसडी कैंटीन पहुंचे, और सरकार व प्रशासन के द्वारा जारी किये गए आदेशों को ठेंगा दिखाया.

हालांकि डीसी ने इसी तरह से भीड़ लगी तो कैंटीन को बंद करने की बात भी कही है. बता दें कि चरखी दादरी के घिकाड़ा रोड़ पर सेना से रिटायर सैनिकों के सामान लेने के लिए सीएसडी कैंटीन बनाई हुई है. लेकिन कोरोना संक्रमण को देखते हुए लगे लॉकडाउन में सब्जी, दूध आदि दुकानों को छोड़कर अन्य सभी दुकानों, कैंटीन आदि को प्रशासन व सरकार ने बंद करवा दिया था जंहा भीड़ लगती हो. लेकिन कोरोना केसों में आई कमी के दौरान प्रशासन द्वारा दुकानों को समय अनुसार खोलने की ढील दी गई है. लेकिन सैनिक कैंटीन में आज सुबह ही कैंटीन के सामने पूर्व सैनिकों की भीड़ जमा होने लगी.
हालांकि सामान लेने के लिए महिलाएं भी आई हुई थी. कुछ पूर्व सैनिकों ने कैंटीन के गेट के बाहर कैंटीन प्रबंधक से बातचीत कर शराब व सामान देने की प्रक्रिया की बात कही. कैंटीन प्रबंधक ने पूर्व सैनिकों को बताया कि हर रोज के सौ-सौ टोकन दिए जाएंगे. सौ-सौ लोगों को प्रतिदिन सामान लेने के लिए बुलाया जा रहा है. फिर भी न जाने कहा से इतनी भीड़ जमा हो रही है.

उन्होनें कहा कि प्रशासन की और से एक बार पुलिस आती है और देखकर चली जाती है. अगर पुलिस का स्थाई इंतजाम किया जाए तो ही भीड़ को कम किया जा सकता है. वहीं डीसी राजेश जोगपाल के मामला संज्ञान में आते ही उन्होनें एसडीएम डॉ विरेन्द्र व सिटी एसएचओ को भीड़ के बारे में अवगत करा दिया गया है. सरकार के आदेश व कोरोना संक्रमण को लेकर डीसी ने कहा अगर इस तरह से ही कैंटीन में लोगों की भीड़ जमा होती रही तो कैंटीन को बंद करना पड़ेगा. ताकि जिले में अधिक कोरोना संक्रमण ना फैले.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज