जजपा के नेता दिग्विजय चौटाला ने कहा, हरियाणा के सीएम अहंकार के नशे में चूर हैं
Charkhi-Dadri News in Hindi

जजपा के नेता दिग्विजय चौटाला ने कहा, हरियाणा के सीएम अहंकार के नशे में चूर हैं
जजपा के नेता दिग्विजय चौटाला ने कहा कि हरियाणा के सीएम अहंकार के नशे में चूर हैं.

जजपा नेता (JJP Leader) दिग्विजय चौटाला (Digvijay Chautala) ने कहा कि मुख्यमंत्री का अहंकार अक्तूबर और नवंबर तक की बात है. अहंकारी लोगों को 75 पार नहीं बल्कि विधानसभा से बाहर का रास्ता दिखाएंगे.

  • Share this:
चरखी दादरी, इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष (National President) और जजपा नेता (JJP Leader) दिग्विजय चौटाला (Digvijay Chautala) ने कहा कि हम तो जब भी यहां आते हैं, यहां की शख्सियत जो हमें रास्ता दिखाने वाले लोग और हमारे आइडियल हैं उनका आशीर्वाद लेकर आगे बढ़ते हैं. राज्य के मुख्यमंत्री (Manohar Lal Khattar) अहंकार में चूर हैं, मुख्यमंत्री (Chief Minister)का अहंकार सातवें आसमान पर हैं. यह बात दिग्विजय चौटाला ने जिले के कस्बा बाढड़ा के क्रांतिकारी चौक पर राज महताब और मंशाराम की प्रतिमा पर उनकी प्रतिमा पर माला अर्पित कर उनका आशीर्वाद लेने के बाद कही. दिग्विजय 25 सितंबर को महम में होने वाली रैली को लेकर ग्रामीण इलाकों का दौरा कर रहे हैं.

'प्रदेश की जनता अहंकारी लोगों को विधानसभा से बाहर का रास्ता दिखाएगी'

उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि मुख्यमंत्री 75 पार का टारगेट पर जोर दे रहे हैं. महान लोगों को याद करना और उन्हें माला अर्पित करना मुख्यमंत्री के चेप्टर में नहीं है. मुख्यमंत्री का अहंकार अक्तूबर और नवंबर तक की बात है. अहंकारी लोगों को 75 पार नहीं बल्कि विधानसभा से बाहर का रास्ता दिखाएंगे. ये आज हरियाणा प्रदेश की जनता की आवाज है.



बीजेपी अब दल नहीं दलदल बन चुका है: चौटाला
Digvijay Chautala-दिग्विजय चौटाला
दिग्विजय चौटाला ने कहा कि बीजेपी में आपसी फूट क्षेत्रीय दलों के लिए अच्छी खबर है. (File Photo)


दिग्विजय चौटाला ने कहा कि बीजेपी में आपसी फूट क्षेत्रीय दलों के लिए अच्छी खबर है. बीजेपी में टिकट एक को मिलेगी, जो लोग 100 की स्पीड से बीजेपी में जा रहे हैं, 200 की स्पीड से वापिस भागेंगे. निश्चित तौर पर बीजेपी अब दल नहीं दलदल बन चुका है. वैचारिक तौर पर लोग बीजेपी से नहीं जुड़े हैं, कुछ लोग मोदी की लहर में अपना दांव लगाने के चक्कर में हैं. उन लोगों को यह समझना चाहिए कि यह हरियाणा का चुनाव है, मोदी का चुनाव नहीं है इसलिए लोग हरियाणा के मुद्दों पर पर वोट देंगे.

यह भी पढ़ें: भूपेंद्र सिंह हुड्डा कांग्रेस में रहेंगे या नहीं, 36 सदस्यों की कमेटी करेगी फैसला

चौटाला परिवार में सुलह करवाएगी खाप पंचायतें, नरम पड़े अभय के तेवर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज