चरखी दादरी: जमीन का मुआवजा नहीं बढ़ने से परेशान किसान की मौत

धरने पर मुआवजा वृद्धि के लिए आने वाले गांव खातीवास निवासी 65 वर्षीय किसान की मौत हो गई.

Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: August 12, 2019, 4:05 PM IST
चरखी दादरी: जमीन का मुआवजा नहीं बढ़ने से परेशान किसान की मौत
चरखी दादरी में किसान की मौत
Pardeep Sahu
Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: August 12, 2019, 4:05 PM IST
ग्रीन कारिडोर की अधिग्रहीत जमीन का मुआवजा वृद्धि को लेकर दादरी जिले के 17 गांवों के किसान 6 माह से धरने देकर संघर्ष कर रहे हैं. धरने पर मुआवजा वृद्धि के लिए आने वाले गांव खातीवास निवासी 65 वर्षीय किसान की मौत हो गई. गांव खातीवास निवासी 65 वर्षीय किसान धर्मपाल सिंह आज सुबह अपने घर से दादरी के गांव रामनगर में किसानों के धरने में शामिल होने के लिए निकलने की तैयारी कर रहा था. इसी दौरान उसके सीने में दर्द उठा, परिजन कुछ समझ पाते किसान धर्मपाल की मौत हो चुकी थी.

शव को दादरी के सरकारी अस्पताल में लाया गया. जहां पूर्व मंत्री सतपाल सांगवान, किसान आंदोलन के अध्यक्ष रमेश दलाल सहित अनेक किसान पहुंचे. परिजनों ने बताया कि धर्मपाल अपनी जमीन को लेकर काफी चिंतित रहता था. जमीन का उचित मुआवजा नहीं मिलने के गम के चलते मौत हुई है.

किसानों ने की ये मांग

वहीं किसान नेता रमेश दलाल ने कहा कि किसान अपनी मांगों को लेकर गांव रामनगर में पिछले 6 माह से धरने पर बैठे हैं. लेकिन सरकार ने मांग मानने की बजाए किसानों को प्रताडि़त करने का काम किया है. सरकार की प्रताडऩा के चलते किसान धर्मपाल की मौत हुई है. ऐसे में मृतक किसान को शहीद का दर्जा व एक करोड़ मुआवजा देने के साथ-साथ किसानों की जमीन का उचित मुआवजा दिया जाना चाहिए. इस दौरान किसानों ने अल्टीमेटम दिया कि इस बार पीछे नहीं हटेंगे और धरनास्थल पर रणनीति बनाकर बड़ा आंदोलन करेंगे.

ये भी पढ़ें - ब्लैकमेल करने वाली महिला यूं फंस गई अपने ही बुने जाल में

करनाल: दुकान में स्कूटी खड़ी कर नहर में कूद गई युवती
First published: August 12, 2019, 4:05 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...