तूफान का कहर, फसलों में भारी नुकसान से किसान चिंतित

किसानों का कहना है कि इस बार अच्छी पैदावार की उन्हें उम्मीदें थी. लेकिन तेज आंधी, तूफान में उनकी ज्वार, बाजरा व नरमा की फसलें काफी हद तक नष्ट हो गई हैं.

Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: September 10, 2018, 1:16 PM IST
तूफान का कहर, फसलों में भारी नुकसान से किसान चिंतित
तूफान से गिरे पेड़
Pardeep Sahu
Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: September 10, 2018, 1:16 PM IST
चरखी दादरी के गांव महराणा और आसपास क्षेत्र में देर शाम बारिश के साथ आए तेज तूफान के कारण भारी नुकसान हुआ. एक तरफ खेतों में लहराती फसलें गिर गई वहीं कई जगह पेड़ जड़ों सहित उखड़ कर टूट गए. सड़क किनारे औऱ खेतों में लगे बिजली के पोल भी टूट कर गिरने से हालात विकट हो गए. पेड़ों के टूटकर सड़क़ पर गिरने से आने-जाने का रास्ता भी बाधित हो गया जिससे आमजन को काफी दिक्कतें आ रही हैं. गांव में घंटों तक बिजली गुल रही. तूफान के कारण हुए नुकसान का आंकलन करने के लिए तहसीलदार ने मौके पर पहुंचकर निरीक्षण किया और रिपोर्ट तैयार कर सरकार को भेजने की बात कही.

लोन मांगने बैंक पहुंचे किसानों को मैनेजर ने दी सुसाइड करने की सलाह!

बता दें कि देर सायं तेज बारिश के साथ तुफान ने दादरी क्षेत्र में कहर मचाया. खरीफ की फसलें जमीन के साथ लेट गई तो कई स्थानों पर फसल बर्बाद हो गई।.पेड़ टूटने से जहां रोड बाधित हो गए वहीं बिजली के पोल टूटने से कई गांव अंधेरे में डूबे रहे. फसलें बर्बाद होने से किसानों की चिंताएं बढ़ गई.

किसानों का कहना है कि इस बार अच्छी पैदावार की उन्हें उम्मीदें थी. लेकिन तेज आंधी, तूफान में उनकी ज्वार, बाजरा व नरमा की फसलें काफी हद तक नष्ट हो गई हैं. कई जगह जमीन पर बिछ गई तो कहीं जगह तेज आंधी के चलते टूट गई. किसानों ने महंगे खाद, बीज, सिंचाई पानी से फसलें तैयार की थी जो एक ही झटके में नष्ट हो गई.

फसल उत्पादन पर ही बैंकों से लिया लोन चुकाने, घरेलू कामकाज, शादी-विवाह और अन्य कार्य निर्भर होते हैं. लेकिन इस बार उनकी फसलें खराब हो गई हैं. वे जल्द ही दादरी प्रशासन से मिलेंगे और नुकसान की भरपाई के लिए मुआवजे की मांग करेंगे. किसानों का कहना है कि फसलें बर्बाद होने के साथ ही काफी संख्या में पेड़ भी टूट गए हैं. गांव में बिजली पोल इत्यादि टूटने से आपूर्ति बाधित हो गई. इन हालातों में जनजीवन कठिन हो गया है. प्रशासन को चाहिए कि इन हालातों से उन्हें निजात दिलाए और फसलों के नुकसान की भरपाई के लिए उचित मुआवजा मुहैया कराए.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर