भीषण गर्मी ने सोख लिया पानी, अन्नदाताओं की चिंता बढ़ी

पिछले एक सप्ताह के दौरान प्रदेश के साथ-साथ चरखी दादरी जिले में भी गर्मी ने अपने कड़े तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं. गर्मी से एक ओर जहां लोगों का हाल बेहाल है, वहीं दूसरी ओर 46-47 डिग्री की तपस के बीच भी किसान खेतों में रेत के सहारे जिंदगी संवारने में लगे हुए हैं.

Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: June 3, 2019, 3:00 PM IST
भीषण गर्मी ने सोख लिया पानी, अन्नदाताओं की चिंता बढ़ी
प्रतिकात्मक तस्वीर
Pardeep Sahu
Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: June 3, 2019, 3:00 PM IST
भीषण गर्मी और तेज धूप के बीच फसलों की देखभाल कर रहे किसान रेत के सहारे ही अपनी जिंदगी को संवारने के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं. भीषण गर्मी के बीच किसानों को खेत में कड़ी मेहनत से जो कुछ भी मिल जाता है, उसी से परिवार चलता है. लू के थपेड़ों के बीच किसानों को मजबूरी में भी खेतों में कार्य करना पड़ रहा है. वहीं स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर हो गया है और हीट स्ट्रोक से बचने के लिए अस्पताल में पुख्ता प्रबंध किए गए हैं. साथ ही अधिकारियों ने किसानों के साथ-साथ आमजन को गर्मी से बचने की हिदायतें दी हैं.

पारा 46 पार

पिछले एक सप्ताह के दौरान प्रदेश के साथ-साथ चरखी दादरी जिले में भी गर्मी ने अपने कड़े तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं. गर्मी से एक ओर जहां लोगों का हाल बेहाल है, वहीं दूसरी ओर 46-47 डिग्री की तपस के बीच भी किसान खेतों में रेत के सहारे जिंदगी संवारने में लगे हुए हैं.

गर्मी ने सोख लिया पानी

किसान ओमबीर व जयसिंह का कहते हैं कि सूरज की बढ़ती तपस से भूमिगत जल स्तर नीचे चला गया. वे बारिश का इंतजार कर रहे हैं लेकिन भीषण गर्मी के बीच फसल को बचाने की जद्दोजहद करना पड़ रहा है. उन्होंने बताया कि भीषण गर्मी बीच किसी तरह खेतों में पानी देना पड़ रहा है जिससे अन्य कार्यों के लिए कोई भी समय नहीं मिल पाता. किसानों ने बताया कि नाम मात्र कृषि योग्य भूमि होने की वजह से आजीविका के लिए यह खेती सबसे सर्वोत्तम है. गर्मी के बीच आमजन भी काफी परेशान है. लोग अपने मुंह पर कपड़ा ढांपकर बाहर निकल रहे हैं.

क्या कहना है स्वास्थ्य अधिकारी का

एसएमओ डा. अनिता गुलिया ने बताया कि भीषण गर्मी को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर है. हीट स्ट्रोक से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा सभी विभागों को सक्रिय रहने व विपरीत परिस्थितियों में तुरंत राहत देने के लिए बता दिया गया है. लू को देखते हुए जिला व ब्लॉक स्तर पर इलाज की व्यवस्था के लिए ग्लुकोज, ओआरएस, गोली व इंजेक्शन पर्याप्त मात्रा में रख दिए है. सिविल अस्पताल में कांच के शीशों पर सफेद पेंट करवाया जा रहा है ताकि गर्मी से बचाव हो सके. इसके अलावा सामान्य अस्पताल में स्पेशल वार्ड भी बनाया गया है.
ये भी पढ़ें-

रोहतक में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़, 4 गिरफ्तार

दुकान में शराब पीने से मना किया तो लाठी से पीट-पीट कर मार डाला

फरीदाबाद में चलती कार बनी 'आग का गोला', बाल-बाल बचा परिवार
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...